ताज़ा खबर
 

मध्य प्रदेश में किसानों की कर्जमाफी के पैसे कहां से आएंगे? पढ़ें ज्योतिरादित्य सिंधिया का जवाब

मध्य प्रदेश में कर्जमाफी के मुद्दे पर बोलते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि हमारी और बीजेपी सरकार में अंतर है। उन्होंने कहा जब आत्मविश्वास हो तो असंभव कार्य भी संभव हो सकता है।

Author Published on: December 18, 2018 6:27 PM
कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

मध्यप्रदेश में कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के कुछ घंटों के बाद ही कर्जमाफी की घोषणा कर दी। सरकार के इस कदम के तहत किसानों का दो लाख रुपये तक का कर्ज माफ होगा। इसी कर्जमाफी के मुद्दे पर बोलते हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि हमारी और बीजेपी सरकार में अंतर है। उन्होंने कहा जब आत्मविश्वास हो तो असंभव कार्य भी संभव हो सकता है। हमने कर्जमाफी का वादा किया था और 6 घंटे के अंदर कर्जा माफ करके के दिखाया है।

दरअसल, आज तक के एक कार्यक्रम में ज्योतिरादित्य सिंधिया से जब पूंछा गया कि मध्य प्रदेश में किसानों की कर्जमाफी के लिए कम से कम 35 हजार करोड़ लगेगा, ये पैसे कहां से आएंगे? इस पर पर सिंधिया ने जवाब दिया कि कि हमने कहा था कि हम लोग दस दिन के अंदर 2 लाख रुपए माफ करेंगे। आप कह रहे हैं कि साधन कहां से आएंगे। यही तो अंतर है जब असंभव कार्य भी संभव हो सकता है और यदि आपका ह्रदय सही जगह ना हो तो संभव कार्य भी असंभव हो जाता है।

सिंधिया ने कहा कि जब देश का किसान चलकर दिल्ली पहुंच रहा है, सरकार का एक भी नुमाइंदा उनके आंसू पोंछने नहीं जाता। हमने कहा था कि 10 दिन के अंदर किसानों का कर्जा  माफ करेंगे और हमने 6 घंटे के अंदर ही कर्ज माफ किया। साधन हम लोग बनाएंगे, कैसे बनाएंगे वो हमारे विवेक पर छोड़िए। बीजेपी और कांग्रेस में अंतर है। कांग्रेस कहती है कि जान जाए पर वचन न जाए, बीजेपी कहती है कि वचन जाए पर जान न जाए।

गौरतलब है कि कांग्रेस ने विधानसभा चुनावों के प्रचार के दौरान किसानों का कर्ज माफ करने का वादा किया था। वादे के मुताबिक मध्यप्रदेश सरकार के मुखिया कमलनाथ ने कर्ज माफी की फाइल पर साइन कर दिया और उन्होंने कहा, ‘मैंने अपना वादा पूरा किया।’ एक आंकड़े के मुताबिक, मध्यप्रदेश के किसानों पर सहकारी बैंक, राष्ट्रीयकृत बैंक, ग्रामीण विकास बैंक और निजी बैंकों का करीब 50 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा का कर्ज है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार प्रदेश की कमलनाथ सरकार सिर्फ खेती के लिए उठाए कर्ज को ही माफ करेगी। इसमें यदि किसान ने दो या तीन बैंक से कर्ज ले रखा है तो सिर्फ सहकारी बैंक का कर्ज माफ होगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में लगाए गए थे पुलिसकर्मी, महिला के अंतिम संस्कार में हुई 4 घंटे की देर
2 J&K: कश्मीर की पहली महिला फुटबॉल कोच बनीं नादिया, कर्फ्यू के दौरान भी करती थी प्रैक्टिस
3 सबरीमाला: चार ट्रांसजेंडरों ने किए भगवान अयप्पा के दर्शन, नहीं हुआ कोई विरोध