ताज़ा खबर
 

हाई कोर्ट के जज की राय- भारत को घोषित कर देना चाहिए था हिंदू राष्ट्र, रजिस्ट्रार ऑफ सिटिजंस की अपडेशन पर उठाए सवाल

जस्टिस सेन ने कहा कि पाकिस्तान ने खुद को इस्लामिक देश घोषित कर दिया और भारत को भी हिंदू राष्ट्र घोषित कर दिया जाना चाहिए था लेकिन भारत एक 'सेक्युलर राष्ट्र' बना रहा।

Author December 13, 2018 11:33 AM
जस्टिस सेन ने कहा कि वह, ‘आश्वस्त हैं कि सिर्फ श्री नरेंद्र मोदीजी की अगुवाई वाली यह सरकार ही इस मामले की गंभीरता को समझेगी और जरूरी कदम उठाएगी।’

मेघालय हाई कोर्ट के जज जस्टिस सुदीप रंजन सेन ने कहा है, ‘किसी को भी भारत को एक और इस्लामिक राष्ट्र बनाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए, वर्ना यह भारत और दुनिया का अंत साबित होगा।’ जस्टिस सेन ने असम के नैशनल रजिस्ट्रार ऑफ सिटिजंस की अपडेशन की प्रक्रिया पर भी सवाल उठाए। उन्होंने इसमें ‘खामियां’ बताते हुए कहा, ‘इससे बहुत सारे विदेशी भारतीय बन जाएंगे और असली भारतीय छूट जाएंगे जो बेहद दुखद है।’ उन्होंने कहा कि केंद्र को एक कानून लाना चाहिए जिससे पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश के गैर मुस्लिम और आदिवासी समुदाय के लोग बिना किसी समय सीमा के भारत में रह सकें। इन्हें बिना किसी सवाल पूछे या दस्तावेज दिए नागरिकता मिलनी चाहिए।

जस्टिस सेन ने कहा कि वह, ‘आश्वस्त हैं कि सिर्फ श्री नरेंद्र मोदीजी की अगुवाई वाली यह सरकार ही इस मामले की गंभीरता को समझेगी और जरूरी कदम उठाएगी।’ उन्होंने यह भी कहा कि सीएम ममता बनर्जी को राष्ट्रहित में पूरी तरह मदद करनी चाहिए। सोमवार को एक याचिका के निस्तारण करते वक्त जस्टिस सेन ने नागरिकता के मुद्दे पर अपनी राय रखी। वह मूल निवास प्रमाणपत्र दिए जाने की मांग वाली अमन राणा नाम के शख्स की याचिका पर सुनवाई कर रहे थे।

जस्टिस सेन ने कहा कि पाकिस्तान ने खुद को इस्लामिक देश घोषित कर दिया और भारत को भी हिंदू राष्ट्र घोषित कर दिया जाना चाहिए था लेकिन भारत एक ‘सेक्युलर राष्ट्र’ बना रहा। जज ने मेघालय के गवर्नर तथागत रॉय की लिखी किताब ‘ द एग्जोडस ऑफ हिंदूज़ फ्रॉम ईस्ट पाकिस्तान ऐंड बांग्लादेश’ का भी जिक्र किया। जस्टिस ने असिस्टेंट सॉलिसिटर जनरल ए पॉल से कहा कि ‘वह जजमेंट की कॉपी लें’ और इसे ‘आदरणीय प्रधानमंत्री’, ‘आदरणीय गृह मंत्री और आदरणीय कानून मंत्री कोसौंप दें। ऐसा इसलिए ताकि वे हिंदुओं, सिख, जैन, बौद्ध, ईसाइयों, पारसियों, खासी, जैंतिया, गारो आदि के हितों की रक्षा के लिए कानून लाने से जुड़े जरूरी कदम उठा सकें। जज के मुताबिक, इसका फायदा इन समुदायों के भारत में रह रहे लोगों के अलावा पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आने का इंतजार कर रहे लोगों के साथ-साथ उनको भी मिले जो देश से बाहर रह रहे हैं।

61 वर्षीय जस्टिस सेन का जन्म और परवरिश शिलॉन्ग में हुई है। वह जनवरी 2014 में मेघालय हाई कोर्ट के जज बने थे। जज ने यह भी कहा कि ”यहां पहले हिंदू राजाओं का शासन था, लेकिन बाद में मुगल आए और उन्होंने भारत के विभिन्न हिस्सों पर कब्जा किया और यहां शासन करना शुरू कर दिया। उसी वक्त बहुत सारे धर्मांतरण जबरन किए गए।” जज ने कहा, ‘मैं अपने उन मुस्लिम भाइयों और बहनों के खिलाफ नहीं हूं जो पीढ़ियों से भारत में रह रहे हैं और भारतीय कानून का पालन कर रहे हैं। उन्हें शांति से रहने की इजाजत होनी चाहिए।’

Elections Results 2018, Assembly Election Results 2018, MP Election Results 2018, Chhattisgarh Election Result 2018, Rajasthan Election Results 2018 , Mizoram Election Results 2018, Telangana Election Results 2018, Assembly Elections 2018 पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के परिणाम यह हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App