ताज़ा खबर
 

इंटर्न की मौत: जूनियर डॉक्‍टरों ने सीनियरों पर लगाया लापरवाही का आरोप, जमकर मारपीट और हंगामा

उत्तर प्रदेश के मेरठ मेडिकल कॉलेज की इमरजेंसी में भर्ती एक जूनियर डॉक्टर की शुक्रवार रात मौत हो जाने पर साथी जूनियर डॉक्टरों ने सीनियर डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा किया और अस्पताल के इमरजेंसी विभाग में तोड़फोड़ भी की।

Author मेरठ | February 13, 2016 3:02 PM
मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ0के के गुप्ता ने बताया कि घटना की जांच कराई जा रही है। जांच में यदि कोई भी दोषी पाया जाता हें तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। ( file picture)

उत्तर प्रदेश के मेरठ मेडिकल कॉलेज की इमरजेंसी में भर्ती एक जूनियर डॉक्टर की शुक्रवार रात मौत हो जाने पर साथी जूनियर डॉक्टरों ने सीनियर डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा किया और अस्पताल के इमरजेंसी विभाग में तोड़फोड़ भी की। इस दौरान जूनियर और सीनियर डॉक्टरों के बीच आपस में मारपीट भी हुई। हालांकि पुलिस का कहना है कि उसे इस तरह के हंगामें और मारपीट की घटना की कोई जानकारी नहीं है ।

एसएसपी डीके दूबे ने मीडिया से बातचीत में इस घटना को मेडिकल कॉलेज का अंदरुनी मामला बताते हुए कहा कि मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टरों ने सीनियर डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाया है। बहरहाल,इस संबंध में अभी तक पुलिस के पास किसी भी पक्ष की तरफ से कोई तहरीर नही आई है।
मेडिकल कॉलेज सूत्रों के अनुसार डॉ0संजीत (32) एमबीबीएस करने के बाद मेरठ के मेडिकल कॉलेज में बतौर जूनियर डॉक्टर इंटर्रशिप कर रहे थे।

वे कुछ दिन से पेट दर्द की बामारी से परेशान थे। उन्होंने कॉलेज में चिकित्सकों के परामर्श के बाद एक्सरे भी कराया था। शुक्रवार को पेट में बहुत तेज दर्द की शिकायत को लेकर डॉ0संजीत मेडिकल कॉलेज के गैस्ट्रोएंट्रोलोजिस्ट को दिखाने गये लेकिन यहां करीब एक घंटे इंतजार करने के बाद भी जब उनका नम्बर नही आया तो वह दूसरे डाक्टर के पास गये जिसने मामूली बीमारी बता कर उन्हें वापस कर दिया। लौटने पर जब उनका दर्द असहनीय हो गया तो उन्हें इमरजेंसी में भर्ती कराया गया। जहां उनकी करीब एक घंटे बाद ही मौत हो गई।

उनकी मौत के बाद जूनियर डॉक्टर गुस्से में आ गए और उन्होंने हंगामा करते हुए इमरजेंसी में तोड़फोड़ शुरु कर दी। यहां उनकी सीनियर डॉक्टरों से मारपीट भी हुई। सूचना पर पुलिस ने मौके पर पहुंच कर स्थिति को काबू में किया। मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ0के के गुप्ता ने बताया कि घटना की जांच कराई जा रही है। जांच में यदि कोई भी दोषी पाया जाता हें तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App