ताज़ा खबर
 

राम मंदिर ट्रस्ट के चंपत राय पर ‘ज़मीन हड़पने’ का आरोप लगाने वाले पत्रकार पर 18 धाराएं, दिग्विजय बोले- मोदी-शाह का गुजरात मॉडल

राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय पर बिजनौर के एक पत्रकार ने ज़मीन हड़पने का आरोप लगाया था। चंपत राय को पुलिस ने क्लीन चिट दे दी लेकिन पत्रकार पर 18 धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज हो गया।

राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय। फोटो- पीटीआई

राम मंदिर की ज़मीन ख़रीद मामले में आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है। आम आदमी पार्टी के संजय सिंह लगातार घोटाले के आरोप लगा रहे हैं। इसी बीच बिजनौर के एक पत्रकार ने राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय पर एक महिला की ज़मीन हड़पने के आरोप लगा दिये। एक फेसबुक पोस्ट में पत्रकार ने आरोप लगाए थे कि उन्होंने नगीना में गोशाला की ज़मीन को गैरकानूनी तरीके से कब्जे में ले लिया और फिर उसपर कॉलेज खोल दिया। पोस्ट लिखने वाले पत्रकार विनीत नारायण पर 18 धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है वहीं पुलिस ने चंपत राय को क्लीन चिट दे दी है।

इसी मामले में एक ट्वीट करते हुए कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने लिखा, ‘यही मोदी-शाह के शासन करने का तरीक़ा है। उन्होंने गुजरात में बड़ी सफलता के साथ लागू किया था। दुख है कांग्रेस के चेताने के बाद भी जनता नहीं समझी।’

पत्रकार ने आरोप लगाया था कि नगीना में 20 हजार स्क्वायर फीट की गोशाला की ज़मीन थी जिसे हड़प करने में चंपत राय ने मदद की थी। फेसबुक पोस्ट में यह भी बताया गया था कि ज़मीन अलका लाहोटी नाम की महिला की है जो कि कि एनआरआई हैं।

उन्होंने लिखा था कि महिला कब्जा हटवाने की कोशिश कर रही है और इस मामले में मुखयमंत्री योगी से भी गुहार लगा चुकी हैं। जानकारी के मुताबिक पुलिस ने पत्रकार और महिला समेत एक और शख्स के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। इसमें आईपीसी की 15 और आईटी ऐक्ट की 3 धाराएं लगाई गई हैं।

बिजनौर के एसपी ने इस मामले में कहा है कि प्रथम दृष्ट्या ये आरोप निराधार लगते हैं। चंपत राय के भाई सुनील बंसल ने कहा है कि ये आरोप राजनीतिक फायदे के लिए लगवाए गए हैं। अगले साल उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव होने हैं इसलिए विपक्ष चाल चल रहा है।

संजय बंसल ने इस मामले में नगीना पुलिस स्टेशन में 19 जून को शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की। बंसल ने यह भी आरोप लगाया था कि फेसबुक पोस्ट पर जिस शख्स का मोबाइल नंबर दिया हुआ था उसे कॉल करने पर उसने गाली-गलौज की।

Next Stories
1 NICE को बदनाम करने के लिए 2 करोड़ का हर्जाना भरें पूर्व PM- कोर्ट का निर्देश
2 Narada Case: ममता की याचिका पर सुनवाई से SC के जज जस्टिस अनिरुद्ध बोस ने खुद को किया अलग
3 राजस्थानः रकबर खान की हत्या में VHP नेता अरेस्ट, गोकशी को लेकर 3 साल पहले हुई थी वारदात
ये पढ़ा क्या?
X