ताज़ा खबर
 

जेएनयू छात्र उमर खालिद को दिल्ली की कोर्ट ने दी चर्चा के लिए कोलकाता जाने की इजाजत

जेएनयू में 9 फरवरी को देश विरोधी नारेबाजी मामले में राजद्रोह का आरोप झेल रहे जेएनयू छात्र उमर खालिद को दिल्ली की एक अदालत ने चर्चा में हिस्सा लेने के लिए कोलकाता जाने की इजाजत दे दी।

Author नई दिल्ली | May 7, 2016 5:56 PM
जेएनयू छात्र उमर खालिद। (पीटीआई फाइल फोटो)

जेएनयू में 9 फरवरी को देश विरोधी नारेबाजी मामले में राजद्रोह का आरोप झेल रहे जेएनयू छात्र उमर खालिद को दिल्ली की एक अदालत ने चर्चा में हिस्सा लेने के लिए कोलकाता जाने की इजाजत दे दी। खालिद की ओर से दायर की गई अर्जी के मुताबिक यह परिचर्चा 21 मई को कोलकाता के मुक्तांगन हॉल में होगी। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश रीतेश सिंह ने खालिद को 20 से 23 मई के बीच बस्तर सॉलिडेरिटी नेटवर्क द्वारा आयोजित परिचर्चा में हिस्सा लेने के लिए शहर की यात्रा करने की अनुमति दे दी।

Read Also:JNU Row: देशद्रोह के आरोपी उमर खालिद और अनिर्बान को छह महीने की जमानत

गौरतलब है कि दिल्ली की एक कोर्ट ने हाल ही में देशद्रोह का आरोप झेल रहे जेएनयू स्टूडेंट उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य को छह महीने की अंतरिम जमानत दे दी थी। दोनों पर आरोप है कि इन्होंने 9 फरवरी को जेएनयू कैम्पस में भारत विरोधी नारे लगाए थे। जमानत देते हुए कोर्ट ने दोनों को 25-25 हजार रुपए का बॉन्ड भरने के लिए भी कहा था। दोनों को 23 फरवरी को देशद्रोह के आरोप में जेल भेजा गया था। बुधवार को एडिशनल सेशन जज रीतेश सिंह ने इनकी जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए बहस सुनी थी, जिसमें दोनों ने कोर्ट से कहा था कि उन्हें कन्हैया की तरह राहत दी जाए। साथ ही कोर्ट से कहा था कि वे तब से न्यायिक हिरासत में हैं और पुलिस को जांच के लिए उनकी कस्टडी की जरूरत नहीं है।

Read Also: डॉक्‍टरों की सलाह के बाद कन्‍हैया ने खत्‍म की भूख हड़ताल, बाकियों का अनशन जारी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X