ताज़ा खबर
 

गुरेज में बनेगा देश का सबसे लंबा सुरंग मार्ग

चेनानी-नशरी सुरंग की लंबाई 9.2 किलोमीटर है और इस लिहाज से प्रस्तावित सुरंग लगभग इसकी दोगुनी लंबाई वाली होगी।
Author श्रीनगर | February 14, 2016 23:06 pm
बीआरओ के मुख्य अभियंता एके दास ने बताया ‘हम लोगों ने गुरेज को पूरे साल घाटी के अन्य हिस्से से जोड़े रखने के लिए राजधानी में 18 किमी. लंबी सुरंग के निर्माण के लिए सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के समक्ष एक प्रस्ताव प्रस्तुत किया है।’ (फाइल फोटो)

सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने जम्मू-कश्मीर में एक सुरंग मार्ग के निर्माण के लिए 9,000 करोड़ रुपए का प्रस्ताव केंद्र को दिया है, जो नियंत्रण रेखा से सटे सामरिक रूप से महत्वपूर्ण गुरेज शहर को घाटी के अन्य हिस्से से जोड़ेगा। बीआरओ के मुख्य अभियंता एके दास ने बताया ‘हम लोगों ने गुरेज को पूरे साल घाटी के अन्य हिस्से से जोड़े रखने के लिए राजधानी में 18 किमी. लंबी सुरंग के निर्माण के लिए सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के समक्ष एक प्रस्ताव प्रस्तुत किया है।’ अगर इस प्रस्तावित परियोजना को मंजूरी मिल जाती है तो यह देश का सबसे लंबा सुरंग मार्ग होगा। इस समय जम्मू-कश्मीर में चेनानी-नशरी सुरंग सबसे लंबी है जिसका निर्माण कार्य इस वर्ष पूरा होने की संभावना है।

चेनानी-नशरी सुरंग की लंबाई 9.2 किलोमीटर है और इस लिहाज से प्रस्तावित सुरंग लगभग इसकी दोगुनी लंबाई वाली होगी। गुरेज नियंत्रण रेखा के समीप है और अक्सर सर्दी के मौसम में बहुत अधिक बर्फबारी के कारण शहर का संपर्क घाटी के अन्य हिस्सों से कट जाता है। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर से आने वाले आतंकवादी गुरेज का इस्तेमाल घुसपैठ के मार्ग के रूप में करते रहे हैं। दास ने कहा कि सुरंग की व्यवहार्यता का अध्ययन पहले ही किया जा चुका है। अगर इसका निर्माण होता है तो इससे ना सिर्फ सुरक्षा बलों को बल्कि आम लोगों को भी बहुत लाभ होगा। उन्होंने कहा कि संपर्क बेहतर होने से विकास को बढ़ावा मिलेगा।

बीआरओ अधिकारी ने कहा कि संगठन ने घाटी में सामरिक रूप से महत्वपूर्ण तीन और सुरंग के निर्माण का प्रस्ताव दिया है। उन्होंने कहा कि इसमें साधना में 6.5 किलोमीटर लंबे सुरंग का निर्माण प्रस्तावित है, जो तंगधार को जोड़ेगा। फुर्कियन में और जमींदार गली में 3.5 किलोमीटर लंबा सुरंग मार्ग प्रस्तावित है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.