scorecardresearch

जितेंद्र सिंहः कांग्रेस के टॉप पैनल में जगह पाने वाले सबसे युवा चेहरा, राहुल के रहे हैं सहयोगी; कहलाते हैं “अलवर के मालिक”

50 वर्षीय जितेंद्र सिंह को इस शीर्ष कांग्रेस पैनल में शामिल करना उनके लिए एक बड़ी उपलब्धि हो सकती है, लेकिन यह आश्चर्य की बात नहीं है।

Congress top advisory committee, Sonia Gandhi
पहली बार सांसद होने के बावजूद, उन्हें 2011 में यूपीए मंत्रीमंडल में गृह राज्य मंत्री के रूप में शामिल किया गया था। (फोटो- वीकिपीडिया)

राहुल गांधी, गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा और मल्लिकार्जुन खड़गे जैसे वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं के अलावा, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा प्रमुख राजनीतिक मुद्दों पर सलाह देने के लिए गठित आठ सदस्यीय राजनीतिक मामलों के समूह में पार्टी के पदाधिकारी जितेंद्र सिंह भी शामिल हैं, जो इसके सबसे कम उम्र के सदस्य हैं।

50 वर्षीय सिंह को इस शीर्ष कांग्रेस पैनल में शामिल करना उनके लिए एक महत्वपूर्ण उत्थान हो सकता है, लेकिन यह आश्चर्य की बात नहीं है। वह हमेशा टीम राहुल के एक प्रमुख सदस्य रहे हैं, जिन्होंने कांग्रेस में और पिछली पार्टी के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार में जबरदस्त ऊंचाई हासिल की है।

सिंह, जो अलवर के पूर्व शाही परिवार से ताल्लुक रखते हैं, राजस्थान के कुछ उन कांग्रेसी नेताओं जैसे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, सीपी जोशी और सचिन पायलट, में शामिल हैं, जिनके पास पार्टी नेतृत्व के कान हैं। दो बार के विधायक, सिंह 2009 के आम चुनावों में अलवर संसदीय क्षेत्र से जीते। हालांकि, पहली बार सांसद होने के बावजूद, उन्हें 2011 में गृह राज्य मंत्री के रूप में यूपीए मंत्रालय में शामिल किया गया था।

बमुश्किल 15 महीने बाद, अक्टूबर 2012 में, जब तत्कालीन पीएम मनमोहन सिंह ने अपने मंत्रालय में फेरबदल किया, तो जितेंद्र सिंह को रक्षा राज्य मंत्री और साथ ही युवा मामलों और खेल के लिए MoS (स्वतंत्र प्रभार) बनाया गया। पार्टी की शीर्ष निर्णय लेने वाली संस्था कांग्रेस कार्य समिति के सदस्य के अलावा सिंह वर्तमान में असम के प्रभारी अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) के महासचिव हैं।

हालांकि वह खुद को साफ तौर पर राज्य की राजनीति से दूर रखते हैं, फिर भी उनको राजस्थान कांग्रेस के हलकों में “अलवर का मालिक” के रूप में जाना जाता है। पार्टी के एक नेता का कहना है कि “यूं तो अलवर क्षेत्र में पार्टी के कुछ मजबूत स्थानीय नेता हैं, लेकिन अन्य बातों के अलावा अलवर से विधायक का टिकट किसे देना है या किसे मंत्री बनाया जाना चाहिए, इसमें सिंह का सबसे अधिक चलता है।”

उदाहरण के लिए, अलवर ग्रामीण विधायक टीकाराम जूली, जो वर्तमान में गहलोत के नेतृत्व वाली राज्य सरकार में सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री हैं, सिंह के करीबी माने जाते हैं।

जितेंद्र के पिता, प्रताप सिंह, अलवर के तत्कालीन शासक परिवार के वंशज थे। उनकी मां महेंद्र कुमारी बूंदी के अंतिम राजा महाराजा बहादुर सिंह की बेटी थीं। कुत्ते और पालतू शेर रखना उनके शौक में शामिल था। वह भाजपा में शामिल हो गई थीं और 1991 में अलवर से सांसद चुनी गईं।

जहां वह लो प्रोफाइल रहते हैं, वहीं सिंह चर्चा में बने रहते हैं। पिछले साल नवंबर में बूंदी की एक अदालत द्वारा कथित जालसाजी मामले में उनके और दो अन्य के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी करने के बाद वह सुर्खियों में थे, हालांकि बाद में इस पर रोक लगा दी गई थी। उन पर कथित तौर पर संपत्ति को अपने नाम करने के लिए अपने चाचा के जाली हस्ताक्षर करने का आरोप लगाया गया था।

इस साल अप्रैल में, वह पूर्ववर्ती बूंदी शाही परिवार के 26वें मुखिया वंशवर्धन सिंह के भव्य “राज तिलक” समारोह में शामिल हुए थे। यह जितेंद्र ही थे जिन्होंने कई अन्य समारोहों और अनुष्ठानों के बीच वंशवर्धन के सिर पर अपने चाचा स्वर्गीय रंजीत सिंह का “पाग” (पारंपरिक टोपी) रखा था।

पढें राज्य (Rajya News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X