ताज़ा खबर
 

मोदी के मंत्री बोले- लालू-मुलायम ने अल्पसंख्यकों को बना रखा था बंधुआ मजदूर, केंद्र सरकार ने किया भला

केंद्र सरकार पर अल्पसंख्यक और दलित विरोधी होने के आरोपों को खारिज करते हुए पासवान ने कहा, ‘‘मोदी सरकार के खिलाफ यह एक दुष्प्रचार है और उसके खिलाफ यह गलत धारणा बनायी जा रही है, जिसकी जोरदार ढंग से काट होनी चाहिए।’’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ रामविलास पासवान का परिवार। (एक्सप्रेस फोटो)

केन्द्र की नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री और बिहार की लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष रामविलास पासवान ने आज (01 जून) रांची में आरोप लगाया कि बिहार में राजद और उसके मुखिया लालू प्रसाद तथा उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह यादव ने अल्पसंख्यकों को हमेशा ‘‘अपना बंधुआ मजदूर’’ समझा जबकि केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार ने अल्पसंख्यकों एवं दलितों के लिए जितना काम किया है उतना आजादी के बाद किसी अन्य सरकार ने कभी नहीं किया। मोदी सरकार के चार वर्ष पूरे होने पर केन्द्र सरकार की नीतियों और योजनाओं के बारे में संपादकों से रू-ब-रू होने आये केन्द्रीय उपभोक्ता मामलों, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण विभाग के मंत्री पासवान और केन्द्रीय सड़क परिवहन राज्यमंत्री मनसुख एल मांडविया ने ये बातें कहीं।

केंद्र सरकार पर अल्पसंख्यक और दलित विरोधी होने के आरोपों को खारिज करते हुए पासवान ने कहा, ‘‘मोदी सरकार के खिलाफ यह एक दुष्प्रचार है और उसके खिलाफ यह गलत धारणा बनायी जा रही है, जिसकी जोरदार ढंग से काट होनी चाहिए।’’ उन्होंने कहा, ‘‘केन्द्र की मोदी सरकार के खिलाफ जो गलत माहौल तैयार किया जा रहा है उसे बदलने की आवश्यकता है और इस बारे में अपने भाजपा के साथियों को अक्सर मैं कहता भी रहता हूं।’’ एक सवाल के जवाब में पासवान ने कहा, ‘‘जहां मुलायम सिंह एवं लालू प्रसाद लगातार अल्पसंख्यकों को अपना बंधुआ मजदूर समझ कर उन्हें वोट बैंक के रूप में इस्तेमाल करते रहे हैं वहीं भाजपा या राजग ने ऐसा कभी नहीं किया।’’

उन्होंने कहा कि इन दोनों नेताओं और उनकी पार्टियों तथा अनेक ऐसी अन्य पार्टियों ने अल्पसंख्यकों के मत तो लिये लेकिन कभी भी उन्होंने उनके लिए कुछ नहीं किया। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वह दावे से कह सकते हैं कि जितना मोदी सरकार ने अल्पसंख्यकों एवं दलितों के लिए काम किया है उतना आजादी के बाद किसी अन्य सरकार ने कभी नहीं किया। बता दें कि देशभर के अधिकांश अल्पसंख्यकों और दलितों में मोदी सरकार के खिलाफ गुस्सा है। अल्पसंख्यक समुदाय जहां तीन तलाक और गो-हत्या के नाम पर मुस्लिमों की हत्या से नाराज है, वहीं दलित समुदाय अत्याचार और दलित अधिकारों के दमन को लेकर आक्रोशित हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App