सुब्रत रॉय ने 1 करोड़ रुपये में बुक की थी फुल एसी ट्रेन, नहीं पहुंचे रेलकर्मी तो 3 घंटे तक खड़ी रही

इलेक्ट्रिल विभाग को सूचना दे दी गई थी कि 6 जून को हटिया से एक स्पेशल ट्रेन मुंबई जाने वाली है। बावजूद रेलवे विभाग इसके लिए स्टाफ मुहैया नहीं करा सका। इधर ट्रेन में बैठे-बैठे जब सहारा कर्मचारियों का धैर्य जवाब देने लगा तो उन्होंने हंगामा किया।

subrata roy, subrata roy sahara, sahara, humsafar express, ranchi, train, Indian railway, Ranchi news, news in Hindi, Jharkhand news, jansatta
कोलकाता में सहारा समूह के एक कार्यक्रम में सुब्रत रॉय सहारा (Express archive Photo. 08.10.2017)

रांची के हटिया रेलवे स्टेशन पर रेलवे की लापरवाही का अजीब मामला सामने आया है। यहां पर इलेक्ट्रिलक विभाग की लापरवाही की वजह से सवारियों से भरी हमसफर एक्सप्रेस तीन घंटे तक खड़ी रही। इस दौरान ट्रेन में बैठे यात्री परेशान रहे। दरअसल सहारा ग्रुप के चेयरमैन सुब्रत रॉय सहारा ने फुल एसी ट्रेन एक करोड़ रुपये में बुक कराया था। इस ट्रेन से सहारा के कर्मचारियों को रांची से मुंबई जाना था। इस ट्रेन को हावड़ा स्टेशन से विशेष तौर पर रांची लाया गया था। ट्रेन बुधवार शाम समय पर पहुंची और प्लेटफॉर्म नंबर पर खड़ी हो गई। इस ट्रेन को शाम 5 बजकर 40 मिनट पर हटिया से मुंबई के लिए खुलना था।

ट्रेन में सहारा के स्टाफ समय पर बैठ भी गये। लेकिन ट्रेन चलने का नाम ही नहीं रही थी। जब जानकारी ली गई तो पता चला है कि ट्रेन में बेडरोल कर्मी ही नहीं हैं। इलेक्ट्रिल विभाग को सूचना दे दी गई थी कि 6 जून को हटिया से एक स्पेशल ट्रेन मुंबई जाने वाली है। बावजूद रेलवे विभाग इसके लिए स्टाफ मुहैया नहीं करा सका। इधर ट्रेन में बैठे-बैठे जब सहारा कर्मचारियों का धैर्य जवाब देने लगा तो उन्होंने हंगामा किया। इसके बाद हटिया रेलवे प्रशासन ने ट्रेन पर जैसे तैसे कुछ कर्मचारियों को चढ़ाया। दरअसल ये रेलवे कर्मचारी मुंबई जाना नहीं चाह रहे थे, लेकिन सीनियर के दबाव के बाद वे जाने को तैयार हुए। हालांकि बावजूद इसके हमसफर एक्सप्रेस में स्टाफ की कमी रही।

इस ट्रेन में 17 एससी बोगी हैं। जिनसे 1000 सहारा स्टाफ मुंबई जा रहे हैं। नियमत: 17 बोगियों के लिए 17 स्टाफ चाहिए थे, लेकिन यहां मात्र दो स्टाफ ही जा सके। इसके लिए भी रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों को बेडरोल कर्मियों के सामने हाथ जोड़ना पड़ा। इससे पहले इसी दिक्कत की वजह से क्रियायोग एक्सप्रेस भी दो घंटे तक रोक दी गई थी। स्थानीय रेलवे अधिकारियों ने कहा है कि यहां स्टाफ की कमी है। आखिरकार तीन घंटे की देरी के बाद ये ट्रेन रात 8 बजकर 40 मिनट पर यहां से खुली। हटिया स्टेशन में 500 सहारा कर्मचारी चढ़े, बाकी 500 स्टाफ गया में चढ़ेंगे। रेलवे अधिकारियों ने कहा है कि 3 घंटे की देरी को सफर में पूरा कर लिया जाएगा।

पढें रांची समाचार (Ranchi News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट