ताज़ा खबर
 

आधार नंबर की तरह रांची के हर घर का जारी होगा 15 अंकोंं का यूनिक नंबर

यूआईडी पर ​मकान पता, निर्माण का प्रकार, मंजिलों की संख्या, उपयोग का उद्देश्य, चाहे आवासीय हो या फिर कर्मिशियल सभी तरह की जानकारी दी जाएगी।

रांची के हर घर को जारी होगा 15 अंको का यूनिक नंबर

जल्द ही रांची नगर निगम के अतंर्गत आने वाले मकानों को एक विशिष्ट नंबर संख्या के साथ बदला जाएगा। यह यूनिक आइडेटिफिकेशन नंबर 15 अंकों का होगा जिसे सभी मकानों का मूल्यांकन करने के बाद फरवरी महीने तक लागू किया जाएगा। नगरपालिका के आयुक्त बैद्यनाथ शर्मा का कहना है कि मकानों यूआईडी करने के बाद रांची नगर निगम के पास पूरा एक डेटाबेस तैयार हो जाएगा। सारी प्रकिया होने के बाद ही हर घर को यह यूआईडी नंबर दिया जाएगा। इसके बाद मकान मालिक और उससे जुड़ी सारी जानकारी रांची नगर निगम की वेबसाइट पर अपलोड की जाएगी।

यूआईडी पर मकान पता, निर्माण का प्रकार, मंजिलों की संख्या, उपयोग का उद्देश्य, चाहे आवासीय हो या फिर कर्मिशियल सभी तरह की जानकारी दी जाएगी। साथ ही हर यूआईडी पर मकानों को एक नंबर हो्गा, सड़क और वार्डो के लिए कोड होगा इससे अधिकारियों के काम करने में आसानी होगी। जहां यूआईडी नंबर के जरिए रांची नगर निगम अधिकारी यह पता लगा पाएंगे की किसी प्रॉपर्टी का टैक्स भुगतान किया गया है या नहीं। वहीं लोग आरएमसी वेबसाइट पर जाकर अपने टैक्स का भुगतान कर सकेंगे।

एक बार यह यूआईडी नंबर अलॉट होने के बाद मकान मालिक को अपने साथ प्रॉपर्टी के कागज हर जगह अपने साथ ले जाने से छुटकारा मिल जाएगा। बस एक बार वेबसाइट पर अपना यूआईडी नंबर डाले और अपनी आप अपनी संपत्ति के विवरण का प्रिंट आउट ले सकेंगे। यह नंबर बहुत ही गोपनीय होगा जिसे किसी के साथ शेयर नहीं किया जाएगा। हालांकि संपतियों का स्वत: निर्धारण नंवबर होगा। इसके बाद आरएमसी के अधिकारी और निजी कंपनी स्पैरो इंफ्राटेक लिमिटेड हर व्यक्ति के घर का दौरा करेगी।

वर्तमान में शहर में करीब ढाई लाख मकान हैं जिसमें से केवल एक लाख ही रांची नगर निगम द्वारा पंजीकृत है। इसी बीच आरएमसी को भी सीधे रजिस्ट्री कार्यालय से जोड़ा जाएगा। इसका नजीता यह होगा कि प्रॉपर्टी का को लेकर हुआ लेन—देन आरएमसी से नहीं छिप पाएगा।

वीडियो: भारतीय वायु सेना के नए चीफ मार्शल बीएस धनोआ ने अमर जवान ज्योति पर दी श्रद्धांजलि

[jwplayer b3rAA2Yc-gkfBj45V]

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App