ताज़ा खबर
 

वीड‍ियो: लहूलुहान पीड़ित जान बख्श देने की लगाते रहे गुहार, पीटती रही भीड़, देखती रही पुलिस

पुलिस के अनुसार झारखंड में सार्वजनिक रूप से भीड़ द्वारा पीट-पीट कर मार डालने की घटनाओं से पहले व्हाट्सऐप पर अफवाह फैलाई गई थी कि इलाके में बच्चा चोर घूम रहे हैं।

Author Updated: May 22, 2017 3:14 PM
झारखंड में भीड़ द्वारा जान से मार देने की घटना के सामने आए वीडियो का स्क्रीनशॉट।

रवीक भट्टाचार्य

झारखंड में पिछले दो हफ्ते में भीड़ ने अलग-अलग घटनाओं में सात लोगों को पीट-पीट कर मार डाला। 18 मई को बागबेड़ा में तीन लोगों को और शोभापुर में चार लोगों को भीड़ ने पीट-पीट कर मारा डाला। इन घटनाओं के वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर हो रहे हैं जिनमें मारे गए लोग लहूलुहान हालत में खुद को बचाने के लिए गिड़गिड़ा रहे हैं और पुलिस मौके पर तमाशबीन बनी हुई है। झारखंड पुलिस के अनुसार इन घटनाओं से पहले व्हाट्सऐप पर दुष्प्रचार किया गया था।

बागबेड़ा की घटना के एक मिनट 18 सेकेंड के वीडियो में दो भाई गौतम (27 वर्ष) और विकास वर्मा (25) और उनके दोस्त गंगेश गुप्ता को भीड़ पीटती दिख रही है। वीडियो में उनकी 80 वर्षीय दादी बेबस अपने पोतों को पीटे जाते देख रही है। वीडियो में भीड़ में खड़े पुलिसकर्मी भी दिख रहे हैं।

शोभापुर की घटना के दो वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे हैं। एक वीडियो 25 सेकेंड का है और दूसरा वीडियो दो मिनट 50 सेकेंड का। 25 सेकेंड के वीडियो में भीड़ में पुलिसकर्मी खड़े दिख रहे हैं। दो मिनट 50 सेकेंड के वीडियो में एक पीड़ित नईम लहूलुहान दिख रहा है। भीड़ उसे जान से मारने की धमकी दे रही है। 35 वर्षीय नईम, 25 वर्षीय शेख सज्जु, 26 वर्षीय शेख सिराज और 28 वर्षीय शेख हलीम की बाद में भीड़ ने हत्या कर दी।

पीड़ितों के परिजनों ने घटना के वीडियो पुलिस को सौंपे हैं। शोभापुर में मारे गए लोगों के परिजनों ने 16 लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी है। मामले के एक प्रत्यक्षदर्शी उत्तम वर्मा ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, “वीडियो में कई लोगों को चेहरे दिख रहे हैं…वीडियो से ये साफ है कि उन लोगों को पुलिस की मौजूदगी में मारा गया।” शोभापुर में हुई हिंसा के मामले में धरनीधर ज्योतिषी और दिनेश महतो नामक दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। मामले में कुल 20 लोगों पर एफआईआर दर्ज हुई है।

पुलिस के अनुसार नौ और 10 मई को व्हाट्सऐप पर दुष्प्रचार किया गया कि इलाके में बच्चा चोरों का गिरोह घूम रहा है। हिन्दी में लिखे मैसेज में ये भी कहा गया कि राखा इलाके में बच्चा चोरों को पकड़ा भी गया है। मैसेज में कहा गया “बच्चा चुराने वाले गिरोह” हिन्दी, बंगला और मलयालम भाषा बोलते हैं और उनके पास सुइयां, बेहोश करने वाली दवाएं, स्प्रे और रूमाल होते हैं। मैसेज में कहा गया कि गांववाले ऐसा गिरोह दिखने पर पास के पुलिस थाने में इत्तला करें और इस मैसेज को दूसरों के साथ शेयर करें।

झारखंड में हुई हिंसा की घटनाओं के वीडियो-

झारखंड में साल 2013 में भी भीड़ ने दो लोगों को पीट-पीट कर मार डाला था जबकि तीन पुलिसवाले खड़े देखते रहे थे।

देखें साल 2013 की घटना का वीडियो-

वीडियो- धमका कर मुस्लिम से जय श्रीराम बुलवाने का यह वीडियो अगर सच है तो यह देश की गंगा जमनी तहजीब पर सवाल खड़ा करता है

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 झारखंड: कुख्यात माओवादी नेता कुंदन पाहन ने किया आत्मसमर्पण, कहा- मैंने जिंदगी के 20 साल बर्बाद कर दिए