ताज़ा खबर
 

झारखंड: 7 लोगों की हत्या पर पुलिस को मानवाधिकार आयोग ने लगाई फटकार, कहा-सभ्य समाज ऐसी हत्याओं की नहीं देता इजाजत

मानवाधिकार आयोग ने झारखंड पुलिस से उन उपायों, प्रस्तावित उपायों को पूछा है जो राज्य सरकार लागू करने वाली है ताकि इस तरह की घटनाएं फिर से ना हो पाये।

झारखंड में प्रदर्शन कर रही भीड़ पर पुलिस को बलप्रयोग करना पड़ा (PTI PHOTO)

झारखंड में 7 लोगों की हत्या पर मानवाधिकार आयोग ने स्वत: संज्ञान लिया है और झारखंड पुलिस से पूरी घटना पर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। झारखंड में दो अलग अलग घटनाओं में भीड़ ने बच्चा चोर समझकर 7 लोगों की हत्या कर दी थी। इनमें से 4 लोगों की हत्या सरायकेला खरसांवा में और तीन लोगों की हत्या पूर्वी सिंहभूम के नागाडीह में कर दी थी गई थी। इस घटना पर मानवाधिकार आयोग ने गंभीर चिंता जताई है और झारखंड के डीजीपी से जवाब तलब किया है। मानवाधिकार आयोग से झारखंड सरकार से 4 हफ़्तों में रिपोर्ट मांगी है। मानवाधिकार आयोग ने झारखंड पुलिस से उन उपायों, प्रस्तावित उपायों को पूछा है जो राज्य सरकार लागू करने वाली है ताकि इस तरह की घटनाएं फिर से ना हो पाये। आयोग ने कहा है कि भीड़ द्वारा लोगों को मारे जाने की खबरें बेहद चिंताजनक है और राज्य सरकार को इस मामले में जल्द से जल्द कार्रवाई करनी चाहिए।

मानवाधिकार आयोग ने अपनी टिप्पणी में कहा कि एक सभ्य समाज इस तरह के घृणित अपराधों को कभी भी सहमति नहीं दे सकता है जहां सिर्फ शक के आधार पर भीड़ द्वारा लोगों की हत्या कर दी जाती है। इस बीच इस मामले में इंसाफ की मांग को लेकर जमशेदपुर में लोगों का जबर्दस्त प्रदर्शन जारी है। कई जगह पुलिस के साथ लोगों की झड़प भी हुई है। लोगों को शांत करने के लिए पुलिस ने हवाई फायरिंग भी की थी, जमशेदपुर के चार इलाकों में निषेधाज्ञा जारी कर दी गई है। मानगो और धातकीडीह में हालात तनावपूर्ण हैं। इसके अलावा ओलीडीह और एमजीएम पुलिस थाना क्षेत्र में भी निषेधाज्ञा लागू की गई है। इन इलाकों में लोगों आरोपियों की गिरफ़्तारी को लेकर कई इलाकों में जाम लगा दिया था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलिस ने इस मामले में अबतक 18 लोगों को गिरफ़्तार किया है। सरकार ने कई पुलिस अधिकारियों पर भी कार्रवाई की है।

झारखंड विधानसभा में स्‍पीकर पर फेंका गया जूता, जमकर चलीं कुर्सियां

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App