झारखंड: स्कूल परिसर में बीफ पकाने के आरोप में हेडमास्टर समेत दो गिरफ्तार - Jharkhand Two arrested including headmaster for cooking beef in school premises - Jansatta
ताज़ा खबर
 

झारखंड: स्कूल परिसर में बीफ पकाने के आरोप में हेडमास्टर समेत दो गिरफ्तार

एक सरकारी स्कूल में कथित रूप से स्कूल के अंदर बीफ पकाने का मामला सामने आया है।

इस तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

झारखंड में एक सरकारी स्कूल की संचालिका और उनके एक सहयोगी को बीते शनिवार (18 जून) को गिरफ्तार कर लिया गया। दोनों को धार्मिक भावनाएं आहत करने के मामले को लेकर गिरफ्तार किया गया है। मामला राज्य के पकौर जिले का है। यहां के एक सरकारी स्कूल में कथित रूप से आरोपियों ने स्कूल के अंदर अपने निजी इस्तेमाल के लिए बीफ पकाया और उसका सेवन किया। पुलिस ने मामले को लेकर स्कूल के बच्चों और उनके माता-पिता द्वारा शिकायत मिली थी जिसके बाद यह कार्रवाई की गई थी। जिले के छोटा मोहलन गांव के एक स्कूल के बच्चों और उनके परिजनों ने बीते शुक्रवार (16 जून) को मामले की शिकायत की थी। शिकायत मिलने के बाद डेप्युटी कमिश्नर ने जांच के आदेश दिए।

हालांकि कथित रूप से बीफ पकाने के मामले में को सैम्पल बरामद नहीं हुए हैं। मामले में गिरफ्तार किए गए लोगों के नाम बिरजू हंसदा और रोजा हंसदा हैं। जिले के एसपी शैलेंद्र बड़वाल ने कहा- “मांस अपनी खपत के लिए लाया गया था लेकिन शुरुआती जांच से पता चला है मांस स्कूल परिसर में पकाया गया था और खाने के लिए मिड-डे मील के बर्तनों का इस्तेमाल किया गया था। हमने मांस का कोई भी नमूना बरामद नहीं किया है।” साथ ही बड़वाल ने यह भी कहा कि इस मामले में ऐसा नहीं लगता कि उन्होंने जान-बूझकर ऐसा किया हो।

इसके अलावा जिले के एसडीओ श्रवण कुमार ने कहा- “जब तक हम स्कूल पहुंचने थे तो वहां पर कोई मीट सैम्पल नहीं थे। हालांकि माता-पिता और छात्र बर्तनों के इस्तेमाल और स्कूल परिसर में मांस पकाने की बातों को लेकर काफी उत्तेजित थे।” पुलिस सूत्रों के मुताबिक रोजा ने बिरजू से मीट लाने के लिए कहा था। वहीं जिला अधीक्षक (शिक्षा) ने बताया कि रोजा को काफी समय पहले नियुक्त किया गया था और कभी भी उनके खिलाफ कोई शियकत नहीं मिली है। बता दें क्षेत्र में संथाल जनजाति के लोगों की काफी तादाद है जो बीफ का सेवन करती है। वहीं रोजा क्रिशियन ट्रायबल है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App