ताज़ा खबर
 

झारखंड: घर बैठे एग्‍जाम देने की सुविधा देता था नकल कराने वाला गिरोह, पहले ही मिल जाते थे क्‍वेश्‍चन पेपर

वहीं इस मामले में जिला शिक्षा अधिकारी ने कार्रवाई करते हुए परीक्षा केंद्र पर तैनात मजिस्ट्रेट, परीक्षा केंद्र अधीक्षक और निरीक्षक को बर्खास्त कर दिया है।

झारखंड एकेडमिक काउंसिल की 10वीं और 12वीं की परीक्षा 18 फरवरी से लेकर 7 मार्च तक है।

परीक्षाओं में नकल को लेकर झारखंड ने बिहार को भी पछाड़ दिया है। प्रदेशभर में चल रही झारखंड एकेडमिक काउंसिल की इंटरमीडिएट की परीक्षा में धड़ल्ले से नकल की जा रही है। यही नहीं परीक्षार्थी घरों में कॉपियां ले जाकर लिख रहे हैं। इस स्कैंडल का खुलासा तब हुआ जब मंगलवार को बोकारों में परीक्षा खत्म होने से कुछ समय पहले कॉपियां सेंटर तक लाई जा रही थी। बता दें कि यहां बालीडीह थाना क्षेत्र के उच्च विद्यालय औद्योगिक क्षेत्र स्कूल में इंटर की परीक्षाएं चल रही हैं। मंगलवार को शक के आधार पर स्थानीय लोगों ने सेंटर से कुछ दूर पहले एक बाइक सवार युवक की जांच की। जांच के दौरान युवक के पास से केमिस्ट्री का प्रश्न पत्र और 2 कॉपियां मिली है। जिस पर 102238 और 102239 नंबर लिखा हुआ था। बताया जा रहा है कि स्थानीय लोगों को पहले से शक था कि इंटर की कुछ कॉपियां रेलवे कॉलोनी के क्वार्टर नंबर 99 में लिखी जाती है और शाम को कॉपियां सेंटर में जमा कर दी जाती हैं।

सूचना के आधार पर स्थानीय लोगों ने कॉपी जमा कराने वाले युवक को धड़ दबोचा। युवक को रंगे हाथ पकड़ने वाले लोगों का कहना है कि यह सिलसिला काफी सालों से यहां चल रहा था। लोगों ने बताया युवक का नाम प्रदुमन हैं और वह किसी स्कूल में शिक्षक है। हालांकि, वह कहां है और किस स्कूल में है इसका खुलासा अभी नहीं हुआ है। वहीं जिन 2 कॉपी को पकड़ा गया है। वो अमन कुमार और सुष्मिता चौधरी के नाम पर जारी हुआ है। हैरानी की बात ये है कि दोनों परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र पर अब्सेंट दिखाया गया है। लेकिन स्कूल प्रशासन की मिलीभगत में इन दोनों की कॉपियां परीक्षा केंद्र के बाहर लिखी जा रही है।

बता दें, झारखंड एकेडमिक काउंसिल की 10वीं और 12वीं की परीक्षा 18 फरवरी से लेकर 7 मार्च तक है। इस परीक्षा में करीब 8 लाख परीक्षार्थी प्रदेशभर में बने 1385 सेंटर पर परीक्षा दे रहे हैं। वहीं इस मामले में पुलिस जांच में जुट गई है। पुलिस का कहना है कि इस पूरे रैकेट में कई और नाम भी शामिल हो सकते हैं।

जिला शिक्षा अधिकारी महिप कुमार सिंह ने कहा, कुछ स्थानीय लोगों ने पांडे को जबरन पेट्रोल पंप के पास पकड़ लिया। जबकि वह उत्तर पुस्तिका जमा कराने के लिए परीक्षा केंद्र आ रहा था। लोगों को अनुचित व्यवहार के कारण पांडे पर शक हुआ। लोगों ने पांडे को पकड़कर उसके टी-शर्ट के अंदर से कॉपियां निकाल ली। उन्होंने कहा कि लोगों ने पांडे से कॉपियां छीन ली और उसको परीक्षा केंद्र पर अधिकारियों को सौंप दिया। साथ ही पुलिस को सूचना कर दी गई।

वहीं इस मामले में जिला शिक्षा अधिकारी ने कार्रवाई करते हुए परीक्षा केंद्र पर तैनात मजिस्ट्रेट, परीक्षा केंद्र अधीक्षक और निरीक्षक को बर्खास्त कर दिया है। साथ ही पांडे और केंद्र अधीक्षक के खिलाफ केस दर्ज कर दिया गया है। जेएसी के चेयरमैन फूल सिंह ने बताया, इस संबंध में जाचं के लिए एक कमिटी गठित की गई है। कमेटी जांच में पता लगाएगी कि आखिर कॉपियां परीक्षा केंद्र से बाहर कैसे पहुंची।’

गौरतलब है कि हाल ही में राज्य में करीब 300 परीक्षार्थियों को नकल करते हुए पाया गया है, जिसके बाद सभी परीक्षार्थियों को निष्काषित कर दिया गया है। ये आंकड़े दिन प्रतिदिन और बढ़ते जा रहे हैं। शिक्षा विभाग परीक्षाओं के दौरान तकनीकी उपकरणों और मोबाइल फोन के कथित इस्तेमाल को लेकर चिंतित है।

देखिए वीडियो - बिहार स्टाफ परीक्षा का पर्चा लीक; पुलिस ने आयोग के सचिव को हिरासत में लिया

ये वीडियो भी देखिए - “2017-18 से फिर से शुरू होगी CBSE स्कूलों की दसवीं की बोर्ड परीक्षा”: प्रकाश जावडेकर

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App