ताज़ा खबर
 

झारखंड: मुस्लिम शख्स को गायों के साथ देखकर भड़के लोग, तस्कर समझ पेड़ से बांध कर पीटा

पूर्वी बसुरिया के आउट पोस्ट इंचार्ज प्रेमचन्द्र हांसदा ने बताया कि पीड़ित शख्स ना ही गायों का तस्कर है और ना ही वो गाय चुराने आया था, लेकिन लोग अफवाह के आधार पर मारपीट के लिए उतारु हो गये।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है। फोटो सोर्स- यूट्यूब

झारखंड में गायों के साथ जा रहे एक शख्स की भीड़ ने एक बार फिर से पिटाई कर दी। पीड़ित शख्स का नाम अफरोज है, और पुलिस के मुताबिक वो मानसिक रुप से बीमार है। अंग्रेजी वेबसाइट हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक ये घटना झारखंड के धनबाद के वासेपुर की है। पुलिस के मुताबिक बुधवार 19 जुलाई को अफरोज को गांव वालों ने तीन गाय के साथ देखकर ये समझ लिया कि ये गायों का तस्कर है अथवा गायों की चोरी करने आया है। इसके बाद लोग भड़क गये और उसे पेड़ में बांध दिया और उसकी जमकर पिटाई की। लेकिन पुलिस वक्त पर पहुंच गई और पीड़ित को उग्र गांव वालों के चंगुल से आजाद कर लिया है। बता दें कि हाल में झारखंड के रामगढ़ में बीफ ले जाने के आरोप में एक शख्स की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी। इससे पहले झारखंड के ही जमशेदपुर में बच्चा चोर होने के आरोप में 7 लोगों की पीट पीट कर हत्या कर दी गई थी। पूर्वी बसुरिया के आउट पोस्ट इंचार्ज प्रेमचन्द्र हांसदा ने बताया कि पीड़ित शख्स ना ही गायों का तस्कर है और ना ही वो गाय चुराने आया था, लेकिन लोग अफवाह के आधार पर मारपीट के लिए उतारु हो गये।

पुलिस के मुताबिक जब गांव वालों ने इस शख्स को गायों के साथ देखा तो वो इससे इसके बारे में पूछने लगे, लेकिन मानसिक रुप से बीमार होने की वजह से ये शख्स इसका ठीक ठीक जवाब नहीं दे सका। पुलिस ने ये भी कहा कि हमला करने वाले सामान्य ग्रामीण थे और किसी भी गौरक्षा अभियान से नहीं जुड़े थे। पुलिस के मुताबिक अफरोज को सिर, पीठ, पैर और गर्दन में चोटें आई है, लेकिन उसकी हालात ठीक है और चिंता करने की कोई बात नहीं है। पुलिस के मुताबिक अफरोज का झारखंड के रांची में मानसिक इलाज चल रहा है।


घटना के बाद साम्प्रदायिक तनाव बढ़ने के आसार देखते हुए पुलिस अास-पास में सोशल मीडिया पोस्ट पर निगरानी रख रही है। और अफवाह फैलाने वालों से सख्ती से निपटा जा रहा है। पुलिस का कहना है कि ये उग्र भीड़ द्वारा की गई एक कार्रवाई है, और यहां के लोग अपने जानवरों को लेकर काफी संवेदनशील हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App