ताज़ा खबर
 

झारखंड में भी होगी पूर्ण शराबबंदी, सीएम रघुवर दास बोले- धीरे-धीरे कई चरणों में करेंगे लागू

सीएम ने उन पंचायतों को एक लाख रुपये नकद राशि देने का ईनाम देने का एलान किया है जहां पूर्ण शराबबंदी लागू होगी।

झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास।(फाइल फोटो)

पड़ोसी राज्य बिहार में लागू पूर्ण शराबबंदी का असर अब झारखंड में भी देखने को मिलेगा। झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि उनकी सरकार भी राज्य में पूर्ण शराबबंदी लागू करने की पक्षधर है और इसे लागू किया जाएगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि झारखंड में इसे लागू करने का तरीका थोड़ा अलग होगा। बतौर सीएम इसे कई चरणों में लागू किया जाएगा। बाद में रघुवर दास ने ट्वीट किया, “शराबबंदी पर हमारी सरकार भी पूरी तरह से सहमत है लेकिन ये प्रक्रिया धीरे धीरे लागू की जाएगी।”

मुख्यमंत्री ने यह एलान गिरिडीह में चल रही झारखंड बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक के अंतिम दिन रविवार (30 जुलाई) को किया। बता दें कि इसके दो दिन बाद यानी एक अगस्त से राज्य में शराब की दुकानों की बंदोबस्ती सरकार ने हाल ही में की है। पाउच से लेकर शैम्पेन तक की किस्म के शराब से राज्य में बड़े पैमाने पर राजस्व की वसूली होती है। इसके इतर राज्य में देशी शराब और हड़िया का भी चलन जोरों पर है, जिसे आदिवासी समाज अपने-अपने घरों में बनाता है।

इससे पहले इसी साल फरवरी में सीएम रघुवर दास ने शराब को सामाजिक समस्या बताई थी और राजनीतिक समस्या मानने से इनकार करते हुए कहा था कि जब लोग जागरूक हो जाएंगे तो खुद-ब-खुद इसकी खपत में कमी आ जाएगी और अंतत: शराबबंदी लागू हो जाएगी लेकिन एनडीए गठबंधन में नीतीश कुमार के शामिल होते ही रघुवर दास के सुर बदल गए हैं। राज्य कार्यकारिणी की बैठक में भी बीजेपी नेताओं ने नीतीश और शराबबंदी के उनके फैसले की तारीफ करते हुए झारखंड में भी इसे लागू करने पर सहमति दी थी।

झारखंड के मुख्यमंत्री सचिवालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ‘द टेलीग्राफ’ से बातचीत में बताया है कि मुख्यमंत्री रघुवर दास चरणबद्ध तरीके से शराबबंदी लागू करने के लिए उत्साहित हैं। उन्होंने कहा कि झारखंड में इसे रातों-रात लागू नहीं किया जा सकता है क्योंकि इसकी जड़ें बहुत गहरी हैं। उन्होंने कहा कि शराब ने राज्य के आदिवासी समाज को बुरी तरह से प्रभावित किया है। गौरतलब है कि सीएम ने उन पंचायतों को एक लाख रुपये नकद राशि देने का ईनाम देने का एलान किया था जहां पूर्ण शराबबंदी लागू होगी। आंकड़ों के मुताबिक राज्य में शराबों की दुकानें घटकर 300 रह गई हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App