ताज़ा खबर
 

झारखंड में पहली बार 12000 गायों का बना 12 अंकों का आधार जैसा कार्ड, सींग-पूंछ, नस्ल और मालिक की जानकारी दर्ज

भारत सरकार की एजेंसी झारखंड स्टेट इम्पलीमेंट एजेंसी फॉर कैटल एंड बुफैलो (JSIACB) इस योजना के पायलट प्रोजेक्ट पर काम कर रही है।

तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

देशभर में गौरक्षा और गौ तस्करी के विवाद के बीच भाजपा शासित राज्य झारखंड में करीब 12 हजार गायों का आधार नंबर की ही तरह 12 अंकों का एक यूनिक आइडेंटिफिकेशन (UID) नंबर तैयार किया गया है। इसमें गाय की नस्ल, दूध देने की क्षमता, उसके मालिक का नाम और पता आदि विवरण सॉफ्टवेयर के जरिए मास्टर कम्प्यूटर में जमा किया गया है। अधिकारियों का कहना है कि इसके जरिए न केवल गाय की सेहत, उसके दुग्ध उत्पादन पर नजर रखा जाएगा बल्कि उसकी तस्करी या चोरी पर भी नजर रखी जा सकेगी।

एक दिन पहले ही सोमवार को केन्द्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि सरकार देशभर में गाय समेत सभी पशुओं को यूनिक आधार नंबर देने की योजना पर काम कर रही है। सरकार ने दलील दी थी कि इस योजना में पशुओं से जुड़ी सभी जानकारी एकट्ठा की जाएगी, मसलन पशु की सींग का आकार-प्रकार, उसके पूंछ की लंबाई, रंग आदि ताकि उनकी चोरी या तस्करी होने से रोका जा सके।

राज्य के सभी गोवंश पशुओं को इसके दायरे में लाने की योजना है। भारत सरकार की एजेंसी झारखंड स्टेट इम्पलीमेंट एजेंसी फॉर कैटल एंड बुफैलो (JSIACB) इस योजना के पायलट प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। फिलहाल पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर राज्य के आठ जिलों में काम शुरू किया गया है। जिन जिलों में ये प्रोजेक्ट चल रहा है उनमें रांची, जमशेदपुर, हजारीबाग, बोकारो, धनबाद, देवघर, लोहरदगा और गिरिडीह को शामिल किया गया है। चार वर्षीय इस योजना के दूसरे और तीसरे चरण में अन्य सभी जिलों को शामिल किया जाएगा।

यह प्रोजेक्ट केन्द्र सरकार की इन्फॉरमेशन नेटवर्क फॉर एनिमल प्रोडक्टिविटी एंड हेल्थ (INAPH) योजना के तहत पिछले साल से झारखंड में चलाई जा रही है। इनाफ के झारखंड प्रभारी के के तिवारी ने कहा कि एक सप्ताह के अंदर गौवंशीय पशुओं की एकत्रित सूचनाएं मास्टर डाटा के रूप में अपलोड कर दिया जाएगा। तिवारी ने बताया कि सभी पशुओं के कान के पास यूआईडी नंबर फिक्स किया गया है जिसमें पशु की उम्र, लिंग, पता, ऊंचाई, वजन, रंग, सींग का प्रकार, पूंछ का आकार-प्रकार और कुछ स्पेशल विवरण अगर है तो उसे भी उसमें फीड किया गया गया है। उन्होंने बताया कि झारखंड में करीब 42 लाख पशु हैं जिनमे 70 फीसदी गाय है।

वीडियो: राजस्थान: अलवर में गौ-रक्षकों ने गायों की तस्करी के शक में कुछ लोगों को जमकर पीटा, 1 की मौत

Next Stories
1 पेंशन वाले साहब: शराब की लत से पिता की मौत, मां के साथ बेचता था चूड़ियां, लकवा और हालात से लड़कर बना IAS
2 ट्रिपल मर्डर केस में बरी हुए राजद के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन लेकिन तिहाड़ जेल से नहीं निकल सकेंगे बाहर
3 झारखंड में पुल की आधारशिला रखने के बाद पीएम मोदी बोले- विकास से बदल जाएगी यहां की तकदीर
ये पढ़ा क्या?
X