Jharkhand Urban Development Minister CP Singh called Gold Medalist players for tribute and made them to work - सम्मान के लिए बुलवाकर किया अपमान, खिलाड़ियों से बीजेपी मंत्री के घर लगवाईं कुर्सियां - Jansatta
ताज़ा खबर
 

सम्मान के लिए बुलवाकर किया अपमान, खिलाड़ियों से बीजेपी मंत्री के घर लगवाईं कुर्सियां

करीब 16 दिन पहले प्रदेश बीजेपी कार्यालय में खेलो इंडिया के खिलाड़ियों के हाथों चाय बिस्कुट बंटवाने का मामला सामने आया था, जिस पर मंत्री सीपी सिंह ने सफाई देते हुए कहा था कि वह उस वक्त वहां मौजूद नहीं थे।

तस्वीर का प्रयोग प्रतीक के तौर पर किया गया है। (फाइल फोटो)

झारखंड में बीजेपी नेता और नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने खिलाड़ियों को सम्मान देने के लिए पहले तो उन्हें घर बुलाया और बाद में उन्हीं से काम भी करवाया। सोशल मीडिया पर इस वक्त एक वीडियो काफी वायरल हो रहा है, जिसमें राष्ट्रीय जंप रोप के विजेता खिलाड़ी मंत्री जी के आवास पर कुर्सी लगाते दिखाई दे रहे हैं। ईनाडु इंडिया के मुताबिक राष्ट्रीय प्रतियोगिता में गोल्ड जीतने वाले खिलाड़ियों को सम्मानित करने के लिए सीपी सिंह ने रांची स्थित अपने घर में एक समारोह का आयोजन किया था, जहां सभी खिलाड़ी समय रहते पहुंच गए थे।

इस समारोह में जब खिलाड़ी पहुंचे तब उनके बैठने के लिए कुर्सियां नहीं थीं, जिसके बाद उन्होंने खुद कुर्सियां लगाईं। यह सब कुछ मंत्री जी के सामने ही हुआ। खिलाड़ियों को ऐसा करते देख मंत्री जी ने उन्हें रोकने की कोशिश भी नहीं की, वहीं सभी खिलाड़ी भी बिना कुछ बोले खुद के बैठने के लिए कुर्सियां लगाते रहे।

झारखंड भले ही अपने प्रदेश के खिलाड़ियों को सम्मान देने को लेकर दावे करता रहा है, लेकिन कुर्सियां लगवाने का मामला सामने आने के बाद इन दावों पर बड़ा सवाल खड़ा हो सकता है। ऐसा पहली बार नहीं है कि खिलाड़ियों से संबंधित किसी मामले को लेकर झारखंड प्रशासन पर सवालिया निशान लग रहा है, बल्कि इससे पहले भी ऐसा एक मामला सामने आ चुका है। करीब 16 दिन पहले प्रदेश बीजेपी कार्यालय में खेलो इंडिया के खिलाड़ियों के हाथों चाय बिस्कुट बंटवाने का मामला सामने आया था, जिस पर मंत्री सीपी सिंह ने सफाई देते हुए कहा था कि वह उस वक्त वहां मौजूद नहीं थे। चाय बिस्कुट बंटवाने वाला मामला सामने आने के बाद विपक्ष ने सरकार की जमकर आलोचना की थी। इस मामले को लेकर झारखंड सरकार की जमकर किरकिरी हुई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App