ताज़ा खबर
 

5 साल की बच्ची का रेप और मर्डर कर जंगल में फेंका, घरवालों से बोला खो गई

झारखंड के धनबाद जिले में बच्‍ची के साथ हैवानियत की घटना सामने आई है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। उससे मिली जानकारी के आधार पर मासूम का शव बरामद किया गया।

पिता ने बेटे को नहर में फेंक दिया। (प्रतीकात्‍मक फोटो)

मासूमों के साथ दरिंदगी की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। अब झारखंड के धनबाद जिले में अमानवीयता की नई घटना सामने आई है। एक शख्‍स ने पांच साल की बच्‍ची से पहले रेप किया और बाद में उसकी हत्‍या कर उसके शव को जंगल में फेंक दिया था। आरोपी ने पीड़ि‍ता के घरवालों को बताया था कि बच्‍ची कहीं खो गई है। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है। ‘पीटीआई’ के अनुसार, आरोपी शख्‍स पीड़िता का न केवल पड़ोसी था, बल्कि उसके बड़े भाई का दोस्‍त भी था। पुलिस ने बताया कि 21 वर्षीय आरोपी शनिवार (28 अप्रैल) को बच्‍ची को पड़ोस के एक शादी समारोह में ले जाने के बहाने अपने साथ ले गया था। तकरीबन एक घंटे बाद वह बच्‍ची के बिना ही वापस लौट आया था। पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) आशुतोष शेखर ने बताया कि बच्‍ची के शव को 29 अप्रैल को उसके घर से कुछ ही दूर से बरामद किया गया था। पूछताछ में उसने अपना जुर्म कबूल कर लिया है।

रेप और मर्डर के बाद शव छुपा दिया था: पुलिस ने बताया कि आरोपी ने बच्‍ची के साथ दुष्‍कर्म के बाद उसकी हत्‍या कर शव को छुपा दिया था। बच्‍ची के परिजनों ने पुलिस को बच्‍ची के गायब होने की सूचना दी थी। इसके बाद पुलिस ने बच्‍ची की तलाश शुरू की थी। अधिकारियों ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद आरोपी ने शव के बारे में जानकारी दी थी। उससे मिली जानकारी के आधार पर खोजबीन शुरू की गई थी। बता दें कि कठुआ और उन्‍नाव सामूहिक दुष्‍कर्म की घटना के बाद देश के कई हिस्‍सों से लगातार बलात्‍कार की घटनाएं सामने आ रही हैं। सूरत में भी एक बच्‍ची के साथ रेप और मर्डर की घटना सामने आ चुकी है। बच्चियों के साथ रेप की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए केंद्र सरकार ने कानून को बेहद सख्‍त कर दिया है। इसको लेकर बकायदा अध्‍यादेश लाया गया है। बदले प्रावधानों के तहत 12 साल से कम उम्र की बच्‍ची के साथ दुष्‍कर्म करने वालों के लिए अधिकतम मौत की सजा का प्रावधान किया गया है। इसका उद्देश्‍य मासूमों के साथ होने वाली हैवानियत पर लगाम लगाना है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App