ताज़ा खबर
 

झारखंड सरकार ने चुनाव ऑब्जर्वर को थमा दी चोरी की गाड़ी, मुंबई पुलिस आई और उठा ले गई कार

चुनाव के लिए नजारत हजारीबाग द्वारा इस गाड़ी को 1250 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से किराये पर लिया गया था। गाड़ी हजारीबाग के ही पलावल गांव के रहने वाले मोहम्मद इकबाल ने दी थी। चुनाव ऑब्जर्वर दस दिनों से इस गाड़ी का इस्तेमाल कर रहे थे।

तस्वीर का प्रयोग प्रतीक के तौर पर किया गया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

झारखंड के हजारीबाग से चोरी की कार का एक बेहद ही चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां जिला प्रशासन ने चुनाव ऑब्जर्वर को एक चोरी की गाड़ी थमा दी। दरअसल, बहुत ही जल्द झारखंड में निकाय चुनाव होने वाले हैं। इसके चलते राज्य में आचार संहिता लगी हुई है और चुनाव ऑब्जर्वर चुनाव की तैयारी कर रहे हैं। चुनाव के दौरान ऑब्जर्वर्स को कामकाज के लिए गाड़ियां दी जाती हैं। इसी नियम का पालन करते हुए हजारीबाग जिला प्रशासन ने चुनाव ऑब्जर्वर को इनोवा मुहैया कराई, लेकिन वह चोरी की निकली।

मुंबई पुलिस चोरी की गाड़ी लेने के लिए हजारीबाग पहुंची और उसे उठाकर ले गई। 16 अप्रैल को झारखंड में निकाय चुनाव होने वाले हैं। इसी के सिलसिले में चुनाव की तैयारियों के लिए राज्य में ऑब्जर्वर की तैनाती की गई है। जिला प्रशासन ने जो गाड़ी उपलब्ध कराई थी, वह महाराष्ट्र के नंबर की थी। मुंबई पुलिस ने गाड़ी के साथ ड्राइवर की भी गिरफ्तारी कर ली।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Space Grey
    ₹ 25799 MRP ₹ 30700 -16%
    ₹3750 Cashback
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback

‘आज तक’ के मुताबिक, चुनाव के लिए नजारत हजारीबाग द्वारा इस गाड़ी को 1250 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से किराया पर लिया गया था। गाड़ी के नंबर प्लेट में एमएच 05 ए.क्यू. 9009 लिखा था। गाड़ी हजारीबाग के ही पलावल गांव के रहने वाले मोहम्मद इकबाल ने दी थी। चुनाव ऑब्जर्वर दस दिनों से इस गाड़ी का इस्तेमाल कर रहे थे। बता दें कि पिछले साल सितंबर में मोहम्मद इकबाल ने मुंबई के सतीश बिंगल से इस गाड़ी को 2 लाख 40 हजार रुपए में खरीदा था, लेकिन 14 हजार रुपए की तीन किश्तें देने के बाद वह वहां से फरार हो गया। उसके बाद सतीश से इकबाल ने कोई संपर्क भी नहीं किया।

गाड़ी चोरी होने की रिपोर्ट सतीश ने पुलिस में दर्ज कराई, जिसके बाद से ही पुलिस इस गाड़ी की तलाश कर रही थी। पुलिस की तलाश झारखंड में खत्म हुई, जहां चोरी की गई गाड़ी बरामद हुई। पुलिस को किसी गुप्त सूत्र से गाड़ी के बारे में पता चला। जानकारी मिलने के बाद पुलिस हजारीबाग पहुंची और समाहरणालय परिसर से इसे जब्त कर लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App