ताज़ा खबर
 

एमएलए की मौजूदगी में हुआ ‘किसिंग’ मुकाबला, सरकार ने दिए जांच के आदेश

भाजपा ने झारखंड की मुख्य विपक्षी पार्टी पर आदिवासी समुदाय की संस्कृति और रीति-रिवाज को धूमिल करने का भीआरोप लगाया है।

Author नई दिल्ली | Published on: December 12, 2017 6:06 PM
झारखंड के पाकुर जिले में आयोजित किसिंग मुकाबले में चुंबन लेता युगल। (फाइल फोटो)

झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के विधायक पाकुर जिले में आदिवासियों के बीच ‘किसिंग’ मुकाबला करा कर बुरे फंस गए हैं। राज्य की भाजपा सरकार ने इस मामले की जांच शुरू कराने की बात कही है। भाजपा ने झारखंड की मुख्य विपक्षी पार्टी पर आदिवासी समुदाय की संस्कृति और रीति-रिवाज को धूमिल करने की साजिश रचने का भी आरोप लगाया है। लिट्टीपाड़ा से झामुमो के विधायक साइमन मरांडी ने शनिवार शाम को अपने गांव पाकुर के डुमरिया में चुंबन प्रतियोगिता का आयोजन कराया था। डुमरिया मेला के दौरान अन्य कार्यक्रम भी आयोजित किए गए थे।

मामले के संज्ञान में आने के बाद राज्य सरकार ने दो सदस्यीय जांच दल का गठन किया है। इसमें पाकुर के एसडीएम जितेंद्र कुमार देव और डीएसपी नवनीत हेंब्रम शामिल हैं। देव ने जांच शुरू होने की जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन से दिशा-निर्देश मिलने के बाद यह छानबीन शुरू की गई है। बकौल देव, उन्होंने सोमवार को डुमरिया गांव का दौरा कर मामले की सत्यता के बारे में जानकारी जुटाई है। एसडीएम ने बताया कि चुंबन प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वाले जोड़ों और इसके आयोजक के बारे में पता लगाया जा रहा है। इसके अलावा मेले की निगरानी के लिए तैनात किए गए मजिस्ट्रेट से भी पूछताछ की जाएगी। देव ने कहा, ‘पहली नजर में यह सार्वजनिक जगहों पर अभद्र व्यवहार का मामला लगता है। ऐसे में यह आईपीसी की धारा 292, 293 और 294 का उल्लंघन है। आरोप सही पाए जाने पर संबंधित लोगों के खिलाफ उचित कर्रवाई की जाएगी।’

भाजपा से जुड़े ऑल आदिवासी यूथ एंड स्टूडेंट्स यूनियन के कार्यकर्ताओं ने किसिंग प्रतियोगिता के खिलाफ मंगलवार को प्रदर्शन किया था। भाजपा के पाकुर जिला परिषद के अध्यक्ष बाबुधन मुर्मु ने कहा कि इस घटना के लिए झामुमो विधायक को माफी मांगनी चाहिए। उन्होंने झामुमो विधायक पर आदिवासी समुदाय की संस्कृति को बदनाम करने और पश्चिमी संस्कृति को लाने का भी आरोप लगाया है। साइमन मरांडी ने कहा था कि इलाके में आदिवासियों की आबादी बहुत ज्यादा है, लेकिन वे प्यार का इजहार करने में संकोच करते हैं। ऐसे में प्रेम और आधुनिकता को बढ़ावा देने के लिए किसिंग मुकाबला का आयोजन किया गया था। इस मेले का आयोजन तीन दशक से भी ज्यादा समय से किया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 फारूक अब्दुल्ला की सलाह- उन्माद फैलाने और लोगों की भावनाओं का दुरुपयोग करने से बचें BJP-RSS