ताज़ा खबर
 

झारखंड में भी बीजेपी को हराने को एक हुए विरोधी, बना आठ पार्टियों का मोर्चा

झारखंड में विपक्षी दलों ने लोकसभा और विधानसभा चुनाव साथ मिलकर लड़ने का निर्णय लिया है। जिसकी औपचारिक घोषणा इसी महीने के आखिर में हो सकती है।

राहुल गांधी और हेमंत सोरेन फोटो सोर्स- जनसत्ता/इंडियन एक्सप्रेस

आगामी लोकसभा चुनावों को देखते हुए राजनीतिक दलों ने अपनी-अपनी कमर कसनी शुरू कर दी है। झारखंड में विपक्षी दलों ने लोकसभा और विधानसभा चुनाव साथ मिलकर लड़ने का निर्णय लिया है। जिसकी औपचारिक घोषणा इसी महीने के आखिर में हो सकती है। बताया जा रहा है कि लोकसभा चुनाव कांग्रेस की अगुआई में लड़ा जाएगा लेकिन विधानसभा चुनाव हेमंत सोरेन की पार्टी लीड करेगी। बता दें कि राज्य में जेएमएम, कांग्रेस, झारखंड विकास मोर्चा-प्रजातांत्रिक (जेवीएमपी), आरजेडी, सीपीआई, सीपीएम, सीपीआई-एमएल और मार्क्सवादी समन्वय समिति आदि पार्टियों के गठजोड़ की बात हो रही है।

बता दें कि हाल ही में राज्य में गठबंधन को लेकर एक बैठक हुई थी जिसमें इसमें जेएमएम अध्यक्ष हेमंत सोरेन, जेवीएम के अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार, कांग्रेस विधायक दल के नेता आलमगीर आलम, आरजेडी अध्यक्ष अन्नपूर्णा देवी, बीएसपी विधायक शिवपूजन मेहता के अलावा वामपंथी दलों के सभी प्रमुख नेता शामिल हुए थे। कांग्रेस और जेएमएम के अलावा इस महागठबंधन में पूर्व सीएम बाबू लाल मरांडी की झारखंड विकास मोर्चा, आरजेडी और लेफ्ट पार्टियां भी शामिल होंगी। मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो 31 जनवरी को राज्य के सभी नेता मिलकर महागठबंधन का औपचारिक ऐलान कर सकते हैं।

गौरतलब है कि जहां आज ममता बनर्जी के नेतृत्व में पश्चिम बंगाल में विपक्षी दलों की एक बड़ी रैली होने जा रही है तो वही झारखंड में भी गैर बीजेपी दल भी साथ आने जा रहे हैं। बता दें कि कई दौर की बातचीत के बाद झारखंड में  गठबंधन पर सहमति बनी है। वहीं ऑल झारखंड स्टूडेंटस यूनियन (आजसू) ने बीजेपी को झटका देते हुए ऐलान कर दिया है कि वह विधानसभा चुनाव अकेले लड़ेगी उसका बीजेपी के साथ गठबंधन नहीं होगा। बता दें कि राज्य में लोकसभा चुनाव होने के 4-5 महीने बाद ही विधानसभा चुनाव होने हैं।

बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में झारखंड की कुल 14 लोसभा सीटों में से 12 सीटों पर बीजेपी को जीत हासिल हुई थी। जेएमएम महज 2 सीट जीत सकी थी जबकि कांग्रेस सहित बाकी दलों का राज्य में खाता तक नहीं खुला सका था। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए राज्य में बीजेपी के खिलाफ महागठबंधन आकार ले रहा है। बताया जा रहा है कि 31 जनवरी को झारखंड में महागठबंधन का ऐलान हो सकता है। जिसमें कांग्रेस और झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) के साथ दूसरे भी दल साथ मिलकर राज्य में चुनाव लड़ेंगे।

Next Stories
1 MP : उल्‍टी करने को महिला ने बस की खिड़की से बाहर निकाला था सिर, खंभे से टकराकर धड़ से हो गया अलग
2 BIHAR : केंद्रीय मंत्री रामकृपाल यादव को लेकर मीसा भारती बोलीं- मन था कि उनके हाथ काट दूं
3 गुड़गांव : गवाही देने कोर्ट गई थी रेप पीड़िता, 5 गोलियां मारकर आरोपी बाउंसर ने कर दी हत्या
ये पढ़ा क्या?
X