ताज़ा खबर
 

सुप्रीम कोर्ट ने बैलिस्टिक विशेषज्ञ को आरोपमुक्त किया

सुप्रीम कोर्ट ने जेसिका लाल हत्याकांड में झूठी गवाही देने के आरोप में एक बैलिस्टिक विशेषज्ञ के खिलाफ शुरू की गई कार्यवाही निरस्त कर दी है।

Author नई दिल्ली | January 11, 2016 3:39 AM

सुप्रीम कोर्ट ने जेसिका लाल हत्याकांड में झूठी गवाही देने के आरोप में एक बैलिस्टिक विशेषज्ञ के खिलाफ शुरू की गई कार्यवाही निरस्त कर दी है। अदालत ने कहा कि मूल दृष्टिकोण से अपना रुख बदलने के लिए उस पर कोई मंतव्य थोपना अनुचित है।

न्यायमूर्ति तीरथ सिंह ठाकुर की अध्यक्षता वाली पीठ ने बैलिस्टिक विशेषज्ञ पीएस मनोचा को भारतीय दंड संहिता की धारा 193 के तहत आरोप से मुक्त करते हुए कहा कि उनका लगातार यही कहना था कि स्पष्ट राय तभी दी जा सकती है जब वारदात में प्रयुक्त संदिग्ध आग्नेयास्त्र उपलब्ध हो। जजों ने कहा, ‘हम यह समझने में विफल रहे कि अपीलकर्ता (मनोचा) का यह रुख किस तरह झूठी गवाही के अपराध का परिचायक हो सकता है।

अपीलकर्ता लगातार यही कहता रहा है कि एक विशेषज्ञ के रूप में निश्चित राय तभी दी जा सकती है जब संदिग्ध आग्नेयास्त्र जांच के लिए उपलब्ध हो। यह किसी का कहना नहीं है कि सिर्फ कारतूसों का निरीक्षण कर कोई विशेषज्ञ इस बारे में निश्चित राय दे सकता है कि क्या इन्हें उसी हथियार से दागा गया था। यह निचली अदालत ही थी जिसने हथियार के बगैर ही राय देने पर जोर दिया था। इस संदर्भ में अपीलकर्ता ने अस्पष्ट और अनिश्चित राय दी थी।

शीर्ष अदालत ने कहा कि ऐसी परिस्थिति में एक विशेषज्ञ कोई भिन्न राय नहीं दे सकता और मनोचा के कथन को लेकर किसी प्रकार की मंशा थोपना अनुचित है। मनोचा ने एक विशेषज्ञ के रूप में इस हत्याकांड में 2000 में निचली अदालत में इस बारे में अपनी राय दी थी कि क्या उसी हथियार से जेसिका पर गोलियां दागी गई थीं। मनोचा ने अपने लिखित बयान में कहा था कि प्रयोगशाला में हथियार के परीक्षण के अभाव में इस सवाल पर अंतिम राय देना संभव नहीं है। जबकि उन्होंने अपनी मौखिक गवाही में कहा था कि ऐसा लगता है कि गोली अलग-अलग हथियारों से दागी गई है।

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिसंबर 2006 में इस हत्याकांड में फैसला सुनाते हुए इस मामले में मुकर गए गवाहों का स्वत: ही संज्ञान लिया था। हाईकोर्ट ने 22 मई 2013 को मनोचा के खिलाफ झूठी गवाही देने के आरोप में कार्यवाही शुरू करने का आदेश दिया था। जेसिका लाल को अप्रैल 1999 में हरियाणा कांग्रेस के नेता विनोद शर्मा के बेटे मनु शर्मा ने गोली मार दी थी क्योंकि उसने बीना रमानी के रेस्तरां में देर रात चल रही पार्टी में उसे शराब परोसने से इनकार कर दिया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App