ताज़ा खबर
 

विधायक गोपाल मंडल का जदयू से निलबंन खत्म करेंगे सीएम नीतीश कुमार?

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की शराबबंदी नीति की एक समारोह में खिलाफत करने पर विधायक गोपाल मंडल को पार्टी से निलंबित कर दिया गया था।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिले विधायक गोपाल मंडल।

क्या गोपालपुर के जदयू विधायक गोपाल मंडल का निलंबन खत्म होगा? यह सवाल बुधवार से हवा में तैर रहा है। दरअसल गोपाल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की घोषित शराबबंदी नीति की अप्रैल 2016 में एक समारोह में खिलाफत कर बैठे थे। यह बात सीएम को नागवार गुजरी और उन्हें पार्टी से निलंबित कर दिया था। हालांकि तब से ही विधायक जी कोशिश में हैं कि निलंबन वापस हो जाए। इससे पहले भी 20 जनवरी 2017 को चेतना यात्रा के क्रम में भागलपुर आए मुख्यमंत्री नीतीश के सैंडिस कम्पाउंड के कार्यक्रम में शरीक होकर क्षमा भाव से मिले थे। मगर नीतीश इस पर टस से मस नहीं हुए। इस बार 17 जनवरी को सीएम नीतीश भागलपुर के उदाहडीह गांव विकास समीक्षा यात्रा के क्रम में आए थे। इस दौरान भी गोपाल मंडल आदर सहित क्षमा भाव से उनसे मिले। गोपाल की इस मुद्रा की फोटो भी खबरों में लगी।

फिलहाल अंदरखाने से सूचना है कि इस समय मान-मनौवल करने और विधायक व मुख्यमंत्री नीतीश के बीच की मध्यस्था का काम राज्य के जल संसाधन मंत्री व भागलपुर जिले के प्रभारी राजीव रंजन उर्फ लालन सिंह कर रहें है। इसलिए ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि उनका निलंबन जल्द ही खत्म हो सकता है। जदयू के ही भरोसे लायक सूत्र बताते हैं कि गोपाल मंडल का विवादों से पुराना वास्ता है। इससे पहले वह एक समारोह में स्टेज पर नाच रही नृत्यांगना के साथ मस्ती में ठुमके लगाने लगे थे। उनका यह वीडियो वायरल हो गया था। इस पर उन्होंने कहा था कि मैं भी कलाकार हूं।

हालांकि नाचना कोई बुरी बात नहीं है। कड़क स्वभाव और इलाके में दबंग छवि के नीरज कुमार उर्फ गोपाल मंडल भागलपुर जिले के गोपालपुर विधान सभा सीट से जदयू विधायक हैं। ये दूसरी बार इस सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। मगर पार्टी से निलंबन के बाद अपने ही दल के कार्यकर्ता इन्हें वैसा भाव नहीं दे रहे। यही बात बीते दो साल से विधायक जी को खटक रही है। जानकार बताते हैं कि बुधवार को मुख्यमंत्री से मिलने के क्रम में उन्होंने इस बात का भी रोना रोया और निलंबन वापस लेने की गुजारिश की।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App