ताज़ा खबर
 

अम्मा के शांत होने के बाद तमिलनाडु के सभी सरकारी कार्यालयों में अवकाश घोषित

तमिलनाडु सरकार ने दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता के सम्मान में आज परक्राम्य लिखित अधिनियम :निगोशिएबल इन्स्ट्रूमेन्ट्स एक्ट: के तहत सभी कार्यालयों में अवकाश की घोषणा की है।

Author चेन्नई | December 6, 2016 10:05 AM
सीएम जयललिता था निधन

तमिलनाडु सरकार ने दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता के सम्मान में आज परक्राम्य लिखित अधिनियम :निगोशिएबल इन्स्ट्रूमेन्ट्स एक्ट: के तहत सभी कार्यालयों में अवकाश की घोषणा की है।  एक सरकारी आदेश में कहा गया है कि यह अधिसूचित सार्वजनिक अवकाश राज्य के सभी सरकारी कार्यालयों, उपक्रमों, निगमों और बोर्ड पर लागू होगा। इसमें कहा गया है, ‘‘परक्राम्य लिखित अधिनियम-1881 की धारा 25 को आठ जून 1957 की भारत सरकार के गृह मंत्रालय की अधिसूचना संख्या 20…25…26, पब्लिक …1 के साथ पढ़ा जाए और इसकी व्याख्या के अनुसार तमिलनाडु सरकार ने राज्य की दिवंगत मुख्यमंत्री सेल्वी जे जयललिता के सम्मान में मंगलवार, छह दिसंबर 2016 को सार्वजनिक अवकाश घोषित किया है। इसमें कहा गया है कि आज सभी औद्योगिक कर्मचारियों के लिए सवैतनिक अवकाश रहेगा। इसके अलावा सभी औद्योगिक प्रतिष्ठानों और दिहाड़ी मजदूरों के लिए भी आज के दिन वेतन के साथ अवकाश होगा। साथ ही सरकार ने सभी शैक्षणिक प्रतिष्ठानों में आज से तीन दिन के अवकाश की घोषणा की है। सरकारी आदेश में कहा गया है कि यह अवकाश दिवंगत नेता के सम्मान में घोषित किया गया है।

जयललिता का सोमवार रात निधन हो गया। उन्होंने रात 11.30 बजे अंतिम सांस ली। पार्थिव शरीर अंतिम दर्शन के लिए राजाजी हॉल में रखा गया है। अंतिम दर्शन के लिए बड़ी संख्या में भीड़ उमड़ रही है। अंतिम संस्कार आज शाम  4:30 बजे होगा। जयललिता के देहांत की खबर से पूरे राज्य में शोक की लहर फैल गई। वहीं, ओ पनीरसेल्वम को राज्य का मुख्यमंत्री बनाया गया है। पनीरसेल्वम ने आधी रात मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। 68 वर्ष की जयललिता को रविवार को अचानक दिल का दौरा पड़ा था। सोमवार को दिन भर उनके स्वास्थ्य को लेकर तरह तरह की अफवाहें उड़ती रही। सोमवार दोपहर कुछ तमिल टीवी चैनलों ने जयललिता की मौत की खबर चलाई थी, जिसका बाद में अस्‍पताल ने खंडन किया। हालांकि बाद में देर रात इस बात की पुष्टि कर दी गई कि जयलिलता अब हमारे बीच नहीं हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App