Jayalalithaa death: Government offices, educational institutions in Kerala to remain shut on December 6 - Jansatta
ताज़ा खबर
 

जयललिता के निधन पर केरल में शोक की लहर, सरकारी दफ्तर बंद

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता का लंबी बीमारी के बाद निधन हो जाने से उनके सम्मान में केरल के सभी सरकारी कार्यालय और शैक्षणिक संस्थान आज बंद रहेंगे।

Author तिरूवनंतपुरम | December 6, 2016 10:57 AM
Jayalalitha Funeral Video Live:जयललिता के देहांत की खबर से पूरे देश भर में शोक की लहर फैल गई। (Photo:AP)

तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता का लंबी बीमारी के बाद निधन हो जाने से उनके सम्मान में केरल के सभी सरकारी कार्यालय और शैक्षणिक संस्थान आज बंद रहेंगे। राज्य सरकार ने एक प्रेस विज्ञप्ति के जरिए राज्य के सभी सरकारी कार्यालयों में आज अवकाश की घोषणा की है। इनमें राज्य के स्वामित्व वाले सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम और शैक्षणिक संस्थान भी शामिल हैं। राज्य के राज्यपाल पी सदाशिवम ने जयललिता के निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा कि वह समकालीन भारत की महान महिला राजनीतिज्ञ थीं। उन्होंने कहा, ‘‘उनमें हमने दृढ़ इच्छाशक्ति वाली कुशल प्रशासक और दयामयी जन हितैषी का बेहतर सम्मिश्रण देखा है।‘‘
‘‘उनके दुखद निधन से हमने अम्मा के अद्वितीय स्पर्श को खो दिया है जिसने पिछले तीन दशकों से लाखों लोगों की जीवन को उज्जवल कर दिया।’

राज्य के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने अपने शोक संदेश में जयललिता को दुर्लभ राजनीतिक सूझबूझ और प्रशासनिक कौशल वाली एक असाधारण राजनेता बताया, जो उन्हें भारतीय राजनीति में एक अलग नेता के रूप मेें पहचान दिलाता है। उन्होंने कहा कि केरल के लिए उनके दिल में विशेष जगह थी और वह हमेशा संबंधों को बनाए रखने के लिए प्रयासरत रहीं।

उन्होंने कहा, ‘‘हमारे देश में ऐसा कोई और मुख्यमंत्री नहीं हैं जिसने जनमानस को इतना प्रभावित किया हो। उनके निधन से न केवल तमिलनाडु बल्कि पूरे देश की भारी क्षति हुई है। विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया। इस बीच, किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए केरल पुलिस ने तमिलनाडु से सटे जिलों में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है। केरल पुलिस ने तिरूवनंतपुरम, कोल्लम, इडुक्की और पलक्कड़ जिलों के सीमा क्षेत्रों में अतिरिक्त बलों को तैनात किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App