ताज़ा खबर
 

जयललिता के 75 दिन इलाज का बिल 6.85 करोड़, सिर्फ खाने पर खर्च हुए थे 1.17 करोड़ रुपए

तमिलनाडु की दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता का इलाज 2016 के दौरान अपोलो अस्पताल में 75 दिन चला था। उनके इलाज के दौरान करीब 6.85 करोड़ रुपए का बिल बना। वहीं, भोजन और अन्य पेय पदार्थों पर करीब 1.17 करोड़ रुपए खर्च हुए थे।

Author December 19, 2018 1:24 PM
दिवंगत जयललिता। फोटो सोर्स : जनसत्ता ऑनलाइन

तमिलनाडु की दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता का इलाज 2016 के दौरान अपोलो अस्पताल में 75 दिन चला था। उनके इलाज के दौरान करीब 6.85 करोड़ रुपए का बिल बना। रूम के किराए के लिए 24 लाख से अधिक रुपये खर्च किए गए। वहीं, भोजन और अन्य पेय पदार्थों पर करीब 1.17 करोड़ रुपए खर्च हुए थे। इनमें 44.56 लाख रुपए अब भी बकाया हैं। यह खुलासा जयललिता की मौत की जांच कर रहे न्यायाधीश ए अरुमुघस्वामी आयोग को हॉस्पिटल की तरफ से दी गई जानकारी में हुआ। बताया जा रहा है कि 6.85 करोड़ रुपये के बिल में जयललिता की पार्टी एआईडीएमके ने 6 करोड़ रुपये का भुगतान कर दिया था।

डॉक्टर रिचर्ड बेले पर 92 लाख खर्च
सूत्रों के मुताबिक, जयललिता के परिजनों ने इलाज के दौरान 5500 रुपये से लेकर करीब 30 हजार रुपये तक के 20 कमरे करीब 60-70 दिन के लिए किराए पर लिए थे। बिल में इसका भी जिक्र है कि इलाज के दौरान सिर्फ खाने और पेय पदार्थों पर 1.17 करोड़ रुपये खर्च हुए। यह बिल जयललिता की इलाज टीम में शामिल रहे लंदन के वरिष्ठ डॉक्टर रिचर्ड बेले पर हॉस्पिटल की सेवाओं के लिए खर्च बिल (92 लाख रुपए) से कहीं ज्यादा है। हालांकि, 1.17 करोड़ रुपये में जयललिता के साथ-साथ पार्टी कार्यकर्ता, पदाधिकारी, मंत्री, सुरक्षाकर्मी और अन्य सहकर्मी भी शामिल हैं, जो उस दौरान अस्पताल आते-जाते रहे।

मीडियाकर्मियों पर 48.43 लाख रुपये खर्च
खाने के बिल में दिखाया गया है करीब 48.43 लाख रुपये सिर्फ मीडियाकर्मियों पर खर्च हुए, जो उस दौरान अस्पताल के बाहर ही कैंप में रहकर लगातार जयललिता के स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां लेते रहे। इसके अलावा 25.8 लाख रुपये पुलिसकर्मियों पर खर्च हुए। 19 लाख रुपये सचिवालयकर्मियों पर और करीब 17.8 लाख रुपये वीआईपी सुरक्षाकर्मियों पर खर्च हुए।

फिजियोथेरेपिस्ट को दिए 1.29 करोड़ रुपए
यही नहीं सिंगापुर स्थित माउंट एलिजाबेथ हॉस्पिटल, जिसकी तरफ से जयललिता को फिजियोथेरेपी की सेवा दी गई, उसे करीब 1.29 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया।

 

5 दिसंबर 2016 को जयललिता की हुई थी मौत
जयललिता 22 सितंबर 2016 को अपोलो अस्पताल में भर्ती की गई थीं। 5 दिसंबर 2016 को उनकी मौत हो गई। उनकी पार्टी एआईएडीएमके ने दावा किया था कि 15 जून 2017 को 6 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया। इससे पहले 13 अक्टूबर 2016 को 41 लाख रुपए जमा किए गए थे। इस बिल के लीक होने पर अस्पताल प्रशासन परेशान है। प्रशासन का कहना है कि इस गोपनीय दस्तावेजों की जानकारी सिर्फ हमारे पास थी, और जांच कमीशन के पास। ऐसे में इसका लीक होना आश्चर्य की बात है।

जांच कर रहे जज 130 लोगों से कर चुके पूछताछ
सितंबर 2017 में जयललिता की मौत की परिस्थितियों की जांच के लिए एक सदस्यीय कमीशन बनाया गया। जांच कर रहे रिटायर्ड जज अरुमुघस्वामी अब तक 130 लोगों से पूछताछ कर चुके हैं। इनमें आईएएस, आईपीएस, अपोलो के डॉक्टर्स, स्टाफ और जयललिता के करीबी भी शामिल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X