ताज़ा खबर
 

Jat Quota Agitation: 3 एचसीएस व 10 डीएसपी निलंबित

हरियाणा द्वारा नियुक्त समिति की रिपोर्ट में फरवरी में जाट आंदोलन के दौरान आइएएस, आइपीएस अधिकारियों समेत 90 अधिकारियों की ओर से ‘जानबूझकर लापरवाही’ किए जाने की बात सामने आने के एक हफ्ते बाद शुक्रवार को राज्य सिविल सेवा (एचसीएस) के तीन अधिकारी व डीएसपी स्तर के 10 अधिकारी निलंबित कर दिए गए।

Author चंडीगढ़ | May 21, 2016 01:48 am
(Express Photo)

हरियाणा द्वारा नियुक्त समिति की रिपोर्ट में फरवरी में जाट आंदोलन के दौरान आइएएस, आइपीएस अधिकारियों समेत 90 अधिकारियों की ओर से ‘जानबूझकर लापरवाही’ किए जाने की बात सामने आने के एक हफ्ते बाद शुक्रवार को राज्य सिविल सेवा (एचसीएस) के तीन अधिकारी व डीएसपी स्तर के 10 अधिकारी निलंबित कर दिए गए।

सूत्रों ने यहां बताया कि जिन सिविल सेवा अधिकारियों को निलंबित किया गया है वे झज्जर के उपसंभागीय मजिस्ट्रेट पंकज सेतिया, हांसी के उपसंभागीय मजिस्ट्रेट जगदीप सिंह और गोहाणा के उपसंभागीय मजिस्ट्रेट धर्मेंद्र सिंह (जो फिलहाल फिरोजपुर झिरका के उपसंभागीय आयुक्त नियुक्त हैं) हैं।

निलंबित पुलिस उपाधीक्षक राज्य अपराध शाखा (एससीबी) के डीएसपी सुखबीर सिंह (जो पहले कलानौर में रोहतक के डीएसपी थे), एससीबी के डीएसएफ सुरेंद सिंह (जो पहले मेहम में डीएसपी तैनात थे), रोहतक मुख्यालय के डीएसपी विजेंद्र सिंह और रोहततक के डीएसपी पवन कुमार हैं।

अन्य निलंबित अधिकारी बेरी के डीएसपी जगत सिंह, सीआइडी के डीएसपी संदीप मलिक (पहले हांसी के डीएसपी थे), लोहारू के डीएसपी राजबीर सिंह, फरीदाबाद के एसीपी (जो पहले गोहाणा के डीएसपी थे) हैं। सोनीपत के डीएसपी के सुनील कुमार, खारखोडा के डीएसपी के सतीश कुमार (पहले गनौर के डीएसपी थे) को भी निलंबित कर दिया गया है।

इससे पहले हरियाणा सरकार ने 17 मई को अपने अवर मुख्य सचिव (गृह) पीके दास को उनके पद से हटा दिया था। उससे कुछ ही दिन पहले पूर्व पुलिस महानिदेशक प्रकाश सिंह ने मुख्यमंत्री को अपनी रिपोर्ट सौंपी थी। दास का स्थान वरिष्ठ आइएएस रामनिवास ने लिया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App