ताज़ा खबर
 

J&K: पुलिस थाने से कुछ सौ मीटर दूर गुरुद्वारे में नजर आया भिंडरावाले का पोस्टर, पनप सकता है विवाद

80 के दशक में पंजाब की बड़ी घटनाओं के लिए भिंडरावाले को जिम्मेदार माना जाता है।

Operation Bluestar anniversaryऑपरेशन ब्लू स्टार से पहले स्वर्ण मंदिर परिसर में सराय की छत पर भिंडरावाले। (Express Archives/Swadesh Talwar)

जम्मू-कश्मीर में खालिस्तानी समर्थक जरनैल सिंह भिंडरांवाले का पोस्टर नजर आया है। पोस्टर गुरु नानक देव गुरुद्वारे में बने गुंबद के बाहरी हिस्से पर लगा हुआ दिखा। न्यूज चैनल टाइम्स नाऊ ने ट्विटर पर इसका वीडियो शेयर किया है। गुरुद्वारा जम्मू शहर में हैं जहां से पुलिस स्टेशन महज कुछ सौ मीटर की दूरी पर है।

गुरुवारे के दाईं तरफ एक और पुलिस स्टेशन हैं। काफी लंबे समय तक गुरुवारे के गुंबद पर भिंडरावाले का पोस्टर लगे रहना चौंकाता है। सवाल उठ रहे हैं कि गुरुद्वारा कमेटी ने पोस्टर लगाने का विरोध क्यों नहीं किया? इस घटना के बाद क्षेत्र में विवाद पनप सकता है।

मालूम हो कि 80 के दशक में पंजाब की कई बड़ी घटनाओं के लिए भिंडरावाले को जिम्मेदार माना जाता है। उसकी वजह से पंजाब कई सालों तक आंतकवाद की आग में झुलसता रहा। दरअसल सारे विवाद की शुरुआत अकाली राजनीति की खींचतान और अकालियों की अलग पंजाब को लेकर मांग के रूप में शुरू हुई थी।

70 के दशक तक राज्य में अलग राज्य की मांग जोर पकड़ने लगी और इसका बड़ा चेहरा भिंडरावाला था। बाद में पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत इंदिरा गांधी ने साल 1984 में ऑपरेशन ब्लू स्टार को मंजूरी दी। भिंडरावाले अपने हथियारबंद साथियों के साथ अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में पनाह लिए हुए था। उसे काबू करने के लिए सेना ने वहां 3 से 6 जून 1984 तक ऑपरेशन चलाया।

इधर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पंजाब पुलिस और स्थानीय पुलिस के संयुक्त दल ने खालिस्तान समर्थक आतंकवादियों के एक साथी को गिरफ्तार किया है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि पंजाब पुलिस और लखनऊ पुलिस के संयुक्त दल ने वांछित अभियुक्त जगदेव सिंह उर्फ जग्गा को लखनऊ के विकास नगर इलाके में गिरफ्तार कर लिया।

उन्होंने बताया कि पकड़े गए अभियुक्त का संबंध खालिस्तान समर्थक आतंकवादी परमजीत सिंह पम्मा और मलतानी सिंह से है। परमजीत इस वक्त इंग्लैंड में और मलतानी जर्मनी में रहकर राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में लिप्त है। इन दोनों पर पंजाब में राष्ट्र विरोधी गतिविधियां करने तथा आतंक को बढ़ावा देने की साजिश रच के शांति और धार्मिक सहिष्णुता को नुकसान पहुंचाने का आरोप है।

Next Stories
1 PM के अपमान का आरोपः सुंदर पिचाई समेत 18 पर काशी में केस, पर बाद में FIR से हटाया गया Google CEO का नाम
2 राज्यसभा में इस्तीफा दे बोले TMC सांसद- पार्टी में हो रही घुटन; थाम सकते हैं भाजपा का दामन
3 कहीं आग लगाई, कहीं पुलिसकर्मियों का गुलाब के फूल से स्वागत, कुछ इस तरह रहा बंगाल का बंद
ये पढ़ा क्या?
X