ताज़ा खबर
 

उत्तराखंड: बर्फबारी से खिले किसानों के चेहरे

उत्तराखंड के चारों धाम बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री बर्फ की चादर से ढके हुए हैं।

सूबे के पर्वतीय क्षेत्रों में कई मोटर मार्ग और पैदल मार्ग बंद होने से स्थानीय लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

उत्तराखंड की पहाड़ियां इस बार भारी बर्फबारी के कारण लकदक हैं। पर्यटकों और प्रकृति प्रेमियों के साथ इस बार प्रदेश के किसान भी बहुत प्रसन्न हैं। भारी बर्फबारी के कारण सेव कृषकों के चेहरों पर चमक है। गढ़वाल मंडल के चमोली जिले के औली में भारी बर्फबारी से बर्फ के मैदान में स्कीइंग के खिलाड़ियों के जलवे हैं और कई अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी औली में इस खेल की अच्छी संभावनाएं देख रहे हैं। केदारनाथ की 2013 की दैवीय आपदा के छह साल बाद प्रदेश में जबरदस्त बर्फबारी हुई है, इससे यह संभावना जताई जा रही है कि गर्मियों में प्रदेश के पर्वतीय क्षेत्रों में पीने और सिंचाई के लिए पानी की कमी नहीं रहेगी।

बर्फबारी के साथ ही भारी बारिश भी हुई है। लिहाजा सूबे के पर्वतीय क्षेत्रों में कई मोटर मार्ग और पैदल मार्ग बंद होने से स्थानीय लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पर्वतों की रानी मसूरी और सरोवर नगरी नैनीताल में भारी बर्फबारी का लुत्फ उठाने के लिए सैलानी बड़ी तादाद में पहुंच गए, जिससे उन्हें घंटों जाम की समस्या से जूझना पड़ा। इस समय काफी पर्यटक मुनस्यारी में हैं। लोक निर्माण विभाग के पास मुनस्यारी क्षेत्र में बर्फबारी से निपटने के लिए एक रोबोट मशीन है, जो मुनस्यारी से काला मुनी रोड खोलने में सक्षम नहीं है।

बर्फबारी बनी मुसीबत

जहां इस बार भारी बर्फबारी ने उत्तराखंड में पर्यटकों की आवाजाही बढ़ाई है। वहीं जन जीवन भी बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। भारी बारिश के चलते उत्तराखंड के पर्वतीय क्षेत्रों में कई मोटर मार्ग और पैदल मार्ग बंद होने से स्थानीय लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कुमाऊं मंडल के नैनीताल के अलावा मुक्तेश्वर, अल्मोड़ा, धानाचुली, रानीखेत, पिथौरागढ़, चंपावत में भारी बर्फबारी हुई। उत्तराखंड के चारों धाम बद्रीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री बर्फ की चादर से ढके हुए हैं। गढ़वाल मंडल के चमोली, उत्तरकाशी, पौड़ी, टिहरी जिलों में भारी बारिश के साथ जमकर बर्फबारी हुई। हेमकुंड साहिब, बदरीनाथ, केदारनाथ के मंदिर बर्फ से पूरी तरह ढक गए हैं। पहाड़ों में बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री, यमुनोत्री, जोशीमठ, औली एमुनस्यारी में तापमान शून्य से नीचे चला गया है। औली में तो तापमान शून्य से 3 डिग्री नीचे है। चमोली जिले के 12 गांव बर्फबारी से बेहद प्रभावित हैं।

पूरे उत्तराखंड में करीब 100 से ज्यादा गांव बर्फबारी के कारण दिक्कतों का सामना कर रहे है। चमोली, जोशीमठ क्षेत्रों में 12 घंटे से बिजली गायब है। वहीं नैनीताल में भारी बर्फबारी के कारण पर्यटकों की बढ़ती संख्या और जाम को देखते हुए प्रशासन ने पर्यटकों को हल्द्वानी के पास ही रोक दिया है। बीते दिनों मसूरी में दो-तीन रूक-रूक कर बर्फबारी हुई, जिससे 500 से ज्यादा पर्यटक बर्फबारी और जाम में फंस गए। जिन्हें भारत तिब्बत सीमा पुलिस के जवानों ने बचाव राहत अभियान चलाकर बचाया और सुरक्षित स्थानों में पहुंचाया।

मौसम विभाग की चेतावनी

मौसम केंद्र देहरादून के मुताबिक हरिद्वार जिले में 8-9 जनवरी को 12.15 मिलीमीटर वर्षा के साथ कुछ स्थानों पर ओले पड़ने की उम्मीद है, देहरादून में 8-9 जनवरी को 15.15 मिलीमीटर तथा पौड़ी गढ़वाल में 15.15 मिलीमीटर बारिश होने की संभावना है। उत्तराखंड के कई इलाकों में 8-12 जनवरी तक हल्के से मध्यम बादल छा रहने की सम्भावना है। हरिद्वार जिले में कुछ जगहों पर 9-10 जनवरी को सबसे अधिक ठंडा दिन रहने की संभावना है।

सुनील दत्त पांडेय, देहरादून

Next Stories
1 यूपी: अखबार बेचा, पढ़ाई की और बने बैंक मैनेजर
2 मिड डे मील स्कीम में बंगाल देशभर में अव्वल, बिहार दूसरे स्थान पर
3 राजस्थान: कोटा के अस्पतालों में बदइंतजामी से हो रहीं नवजातों की मौत
ये पढ़ा क्या?
X