ताज़ा खबर
 

अबु दुजाना: 17 साल की उम्र में ही बना था लश्‍कर आतंकी, सेना थी मुख्‍य निशाना

दुजाना ए श्रेणी का मिलिटेंट था जिस पर 10 लाख रुपये का इनाम भी रखा गया था।

मुठभेड़ में मारा गया आतंकी अबु दुजाना। (Source: Social Media)

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में आज (1 अगस्त) हुई मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने 2 आतंकियों को ढेर कर दिया है। यह मुठभेड़ सुरक्षा बलों के लिए एक बड़ी जीत मानी जा रही है। दरअसल, इस मुठभेड़ में पाकिस्तान के लश्कर कमांडर अबु दुजाना को भी मार गिराया गया है। दुजाना लश्कर का कुख्यात आतंकी था। दुजाना ए श्रेणी का मिलिटेंट था जिस पर 10 लाख रुपये का इनाम भी रखा गया था। दुजाना पाकिस्तानी नागरिक था। सुरक्षा बलों पर किए गए कई हमलों में वह मुख्य भूमिका में था। वहीं इंटेलिजेंस विभाग ने अबु दुजाना को लेकर और भी कई जानकारी दी हैं। दुजाना 17 साल का था जब वह लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हुआ था। वह गिलगित-बाल्टिस्तान का रहना वाला था। वह अपने ऑपरेशन्स को दक्षिण कश्मीर के इलाकों में अंजाम देता था।

दुजाना मुख्य रूप से भारतीय सेना के जवानों को अपना निशाना बनाकर उन पर हमला करता था। हाल ही में ऊधमपुर और पम्पोर इलाकों में हुए आतंकी हमलों में भी उसकी मुख्य भूमिका बताई जाती है। ऊधमपुर आतंकी हमले के मास्टरमाइंड लिस्ट में दुजाना का भी नाम आता है। बता दें ऊधमपुर आतंकी हमले में बीएसएफ के दो जवान शहीद हो गए थे। अबु दुजाना के काम से प्रभावित होकर उसे आतंकी अबु कासिम का डेप्यूटी बनाया गया था। अबु कासिम की मौत के बाद उसे(दुजाना) को दक्षिण कश्मीर में आतंकवाद फैलाने की जिम्मेदारी दी गई थी। दुजाना लगभग 6 साल पहले गैर-कानूनी तरीके से घाटी में दाखिल हुआ था। दुजाना को पकड़ने के लिए दक्षिण कश्मीर के कई इलाकों में दर्जनभर से ज्यादा रेड डाली गई थीं।

बता दें दुजाना की तलाश में 31 जुलाई को चलाए गए सर्च ऑपरेशन के बाद शुरू हुई मुठभेड़ में सुरक्षा बलों ने बड़ी जीत हासिल की है। रिपोर्ट्स के मुताबिक सर्च ऑपरेशन तड़के 4 बजे के करीब शुरू किया गया था। जैसे ही सुरक्षा बलों ने इलाके की घेराबंदी, आतंकियों ने उन पर फायरिंग करना शुरू कर दिया। मुठभेड़ के दौरान इलाके में इंटरनेट सर्विसिस को बंद कर दिया गया था। वहीं मुठभेड़ स्थल के पास हिंसक प्रदर्शनकारियों एवं सुरक्षा बलों के बीच हुई झड़पों में कम से कम दो लोग घायल हो गए।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि 100 से अधिक ‘‘शरारती तत्वों’’ ने पुलवामा के हकरीपोरा में आतंकवाद विरोधी अभियान में शामिल सुरक्षाबलों पर पथराव शुरू कर दिया। उन्होंने बताया कि सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों को तितर बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले, पेलेट और गोलियों का इस्तेमाल किया। उन्होंने कहा कि सुरक्षा बलों की इस कार्रवाई में दो व्यक्ति घायल हो गए। अंतिम रिपोर्ट मिलने तक झड़प जारी थी। अधिकारी ने बताया कि जहांगीर अहमद डार की पीठ में एक गोली लगी और मुदासिर अहमद के सीने में पेलेट लगे हैं। दोनों को विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App