ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर: 5 दिन में ही वादा भूला पाकिस्तान, अखनूर सेक्टर में गोलीबारी में 2 BSF जवान शहीद

पाकिस्तानी की ओर से हुई गोलीबारी में बीएसएफ के दो जवान गंभीर रूप से घायल हो गये। इन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक मरने वाले जवानों में बीएसएफ का एक सब इंस्पेक्टर भी शामिल था। बीएसएफ ने बताया कि पाकिस्तानी रेंजरों को पूरजोर जवाब दिया गया।

जम्मू-कश्मीर में बॉर्डर की निगरानी करते भारतीय सुरक्षा बल।

जम्मू-कश्मीर के अखनूर सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी में बीएसएफ के दो जवान शहीद हो गये हैं। पाकिस्तान ने आज (3 जून) तड़के अखनूर सेक्टर के परगवाल में अंधाधुंध गोलीबारी की। भारतीय सेना ने पाक की इस कायराना हरकत का मुंहतोड़ जवाब दिया। बता दें कि हफ्ते भर पहले ही पाकिस्तान के डीजीएमओ ने भारत के साथ इस बात पर सहमति जताई थी कि 2003 के संघर्षविराम को अक्षरश: पालन किया जाएगा। लेकिन आज अलसुबह पाकिस्तानी रेंजर्स ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर उकसाने वाली कार्रवाई की और भारत की चौकियों पर गोलियां बरसाने लगे। पाकिस्तानी की ओर से हुई गोलीबारी में बीएसएफ के दो जवान गंभीर रूप से घायल हो गये। इन्हें तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक मरने वाले जवानों में बीएसएफ का एक सब इंस्पेक्टर भी शामिल था। बीएसएफ ने बताया कि पाकिस्तानी रेंजरों को पूरजोर जवाब दिया गया। अंतिम रिपोर्ट मिलने तक सीमा पर दोनों ओर से गोलीबारी जारी थी।

बता दें कि 29 मई को भारत और पाकिस्तान के डीजीएमओ के बीच इस बात पर सहमति बनी थी कि 2003 के संघर्ष विराम समझौते का पालन किया जाएगा। ऐसा बॉर्डर पर अक्सर होने वाले टकराहटों को लेकर किया गया था। तब बॉर्डर पर भारत की कार्रवाई से सहमे पाकिस्तान के डीजीएमओ ने हॉटलाइन के जरिये भारत के डीजीएमओ को फोन किया गया था। दोनों पक्षों के बीच नियंत्रण रेखा और अंतर्राष्ट्रीय सीमा रेखा पर मौजूदा हालात पर बातचीत भी हुई थी। इसके बाद भारत के डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान और पाकिस्तान के मेजर जनरल शाहिर शमशाद मिर्जा ने बयान जारी कर कहा था कि दोनों देश की सेनाएं 15 साल पुराने सीजफायर के समझौते का पालन करेगी।

रविवार को दो बीएसएफ जवानों की मौत के बाद इस साल अंतरराष्ट्रीय सीमा रेखा और नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी फायरिंग में मरने वाले लोगों की संख्या 46 हो गई है। इसमें 20 सुरक्षा बल शामिल है।पिछले महीने पाकिस्तान द्वारा की गई फायरिंग से अंतरराष्ट्रीय सीमा के नजदीक जम्मू, कठुआ और सांभा जिलों में कोहराम मच गया था। यहां से हजारों लोगों को अपना घर छोड़कर भागना पड़ा था। 15 मई से 23 मई की इस घटना में 12 लोग मारे गये थे। इसमें बीएसएफ को दो जवान, एक मासूम बच्चा और बाकी दूसरे लोग शामिल थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App