ताज़ा खबर
 

दिल्‍ली: ISJK के दो संदिग्‍ध आतंकी गिरफ्तार, भाई का बदला लेने को जमा कर रहे थे हथियार

स्पेशल सेल के डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस पीएस कुशवाहा ने बताया, 'दोनों के कब्जे से दो पिस्तौल बरामद की गई हैं। इसके अलावा दस कारतूस भी मिले हैं। आरोपी इन्हें कश्मीर लेकर जा रहे थे। हथियारों की सप्लाई के लिए दिल्ली उनका ट्रांसिट प्वाइंट था। आरोपियों ने पूर्व में भी हथियार अपने लोगों को भेजे थे।'

Author September 8, 2018 1:31 PM
एसीपी गोविंद शर्मा नेतृत्व वाली स्पेशल सेल टीम का दावा है कि उन्हें दोनों की गतिविधियों के बारे में जानकारी मिली। इसके बाद एक टीम को लालकिले के पास तैनात किया गया और आरोपियों को नेताजी सुभाष पार्क से गिरफ्तार किया गया। (Express Photo by Praveen Khanna)

बीते गुरुवार को जिन दो तो कथित आतंकियों को दिल्ली के लालकिला इलाके से गिरफ्तार किया गया है वो आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट इन जम्मू-कश्मीर (ISJK) को हथियार सप्लाई कर रहे थे। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने यह दावा किया है। पुलिस द्वारा जारी आधिकारिक बयान में बताया गया कि इनमें एक शख्स की पहचान परवेज अहमद लोन (24) और दूसरे की जमशेद जहूर पोल (19) के रूप में की गई है। दोनों ही कश्मीर के शोपियां रहते हैं। जानकारी के मुताबिक दोनों हथियार खरीदने के बाद दिल्ली से कश्मीर लौट रहे थे। संदिग्धों ने उत्तर प्रदेश के अमरोहा से दो 7.65 MM की पिस्तौल खरीदीं। ये हथियार उमर इब्न नजीर और आदिल ठाकुर से खरीदे गए। वहीं दोनों आरोपियों की गिरफ्तारियों पर इनके परिजनों ने दोनों को निर्दोष बताया है। परिवार ने दोनों के किसी भी तरह की गलत गतिविधि में शामिल होने की बात से इनकार किया है।

दूसरी तरफ स्पेशल सेल के डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस पीएस कुशवाहा ने बताया, ‘दोनों के कब्जे से दो पिस्तौल बरामद की गई हैं। इसके अलावा दस कारतूस भी मिले हैं। आरोपी इन्हें कश्मीर लेकर जा रहे थे। हथियारों की सप्लाई के लिए दिल्ली उनका ट्रांसिट प्वाइंट था। आरोपियों ने पूर्व में भी हथियार अपने लोगों को भेजे थे।’ जानकारी के मुताबिक पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से चार मोबाइल फोन भी बरामद किए हैं। दावा है कि इनमें से दो मोबाइल फोन का इस्तेमाल एन्क्रिप्टेड मैसेजिंग एप्लीकेशन के जरिए संगठन के लोगों से बातचीत में किया जाता था। पुलिस ने आगे बताया कि लोन और पोल ने ISJK के टॉप आतंकियों से जून में पुलवामा के पंचगांव के पास मुलाकात की थी।

एसीपी गोविंद शर्मा नेतृत्व वाली स्पेशल सेल टीम का दावा है कि उन्हें दोनों की गतिविधियों के बारे में जानकारी मिली। इसके बाद एक टीम को लालकिले के पास तैनात किया गया और आरोपियों को नेताजी सुभाष पार्क से गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने दावा कि लोन को दिल्ली के बारे में अच्छी जानकारी थी। इसलिए दोनों राजधानी का इस्तेमाल अपने रूट के रूप में किया। पुलिस के मुताबिक लोन बीटेक ग्रेजुएट हैं और सिविल इंजीनियरिंग का कोर्स पूरा कर चुका है। उसने यह कोर्स यूपी के किसी निजी कॉलेज से किया है। पुलिस का यह भी दावा है कि उसका भाई फिरदोस हिजबुल मुजाहिदीन से जुड़ा है, जो बाद में आईएस में शामिल हो गया। सुरक्षा बलों इस साल उसे मौत के घाट उतार दिया। इसके बाद लोन भाई का बदला लेने के इरादे से संगठन में शामिल हो गया। कुशवाहा के मुताबिक, ‘अप्रैल में लोन ने एक 9 एमएम की पिस्तौल संगठन को सप्लाई की।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App