ताज़ा खबर
 

कश्‍मीर: पुलिसकर्मी के जनाजे में आए 4000 लोग, लोगों ने कहा- यह जिहाद नहीं आतंकवाद है

37 साल के अब्‍दुल करीम 31 दिसंबर की शाम को हंदवाड़ा के चौगल में आतंकी हमले में शहीद हो गए थे।

Author January 3, 2017 12:59 PM
जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस के एक जवान के जनाजे में दो जनवरी को भारी संख्‍या में लोग उमड़े।

जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस के एक जवान के जनाजे में दो जनवरी को भारी संख्‍या में लोग उमड़े। 37 साल के अब्‍दुल करीम 31 दिसंबर की शाम को हंदवाड़ा के चौगल में आतंकी हमले में शहीद हो गए थे। उत्‍तरी कश्‍मीर के लांगेट गांव में उनका अंतिम संस्‍कार किया गया। उनके परिवार में अब दो बेटियां व एक बेटा, पत्‍नी और बूढ़ी मां है। उनकी पत्‍नी प्रेगनेंट भी है। निर्दलीय विधायक शेख राशिद उनके पड़ोसी हैं। स्‍थानीय लोगों का कहना है कि इस इलाके में यह किसी पुलिसकर्मी का सबसे बड़ा जनाजा था। कश्‍मीर में पांच महीने तक प्रदर्शन के बाद तो भारी संख्‍या में लोगों का आना बड़ी बात है।

अंतिम संस्‍कार ईदगाह में हुआ था और स्‍थानीय लोगों ने बताया कि इसमें चार हजार लोग शामिल हुए। करीम के पड़ोसी गुलाम कादिर ने बताया, ”वह अच्‍छे इंसान थे और उन्‍होंने कभी किसी को परेशान नहीं किया। वह हमेशा अपने पड़ोसियों की मदद किया करते थे। गांव के सभी लोग उन्‍हें याद करेंगे।” कई लोगों ने पुलिस पर हमलों की आलोचना भी की। विधायक राशिद ने भी पुलिस पर हमलों का विरोध जताया। उन्‍होंने मुजफ्फराबाद में मौजूद यूनाइटेड जिहाद काउंसिल से कहा कि यह ध्‍यान रखना होगा कि जम्‍मू कश्‍मीर पुलिस के एक लाख जवानों को अकेले नहीं छोड़ा जा सकता। समय आ गया है कि सभी घमंड छोड़ें और मानवता का खून बहाना बंद करे। राशिद ने आगे कहा, ”जब एक सैनिक मरता है तो उसके घर पर दुख होता है। एक नागरिक के मरने पर भी ऐसा ही होता है। मौत आखिर मौत होती है। हत्‍या, हत्‍या होती है चाहे कोई भी करे।”

मीडिया रिपोट्स के अनुसार करीम के एक पड़ोसी ने कहा कि यह सही नहीं है। यह इस्‍लाम के खिलाफ है। यदि आतंकी सोचते हैं कि यह जिहाद है तो यह बात कांस्‍टेबल की पत्‍नी से पूछिए। जनाजे में शामिल हुए अन्‍य लोगों ने भी कहा कि जिन्‍होंने करीम को मारा है वह मुजाहिद नहीं बल्कि आतंकी है। किसी पुलिसकर्मी को मारना इस्‍लाम के खिलाफ है। गौरतलब है कि पिछले एक साल में स्‍थानीय पुलिसकर्मियों पर एक दर्जन से ज्‍यादा हमले हुए हैं। 25 नवंबर को कुलगाम में आतंकी हमले में दो पुलिसकर्मी मारे गए थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X