ताज़ा खबर
 

कश्मीर: मुठभेड़ में लश्कर कमांडर बशीर को मार गिराया, एक महिला सहित चार की मौत

पिछले महीने छह पुलिसकर्मियों की हत्या के पीछे लश्कर के इन्हीं आतंकवादियों का हाथ था।
Author श्रीनगर | July 2, 2017 03:41 am
सेना के जवानों को अब मिलेगा मॉर्डन हेलमेट। (Representative Image)

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग जिले में शनिवार को सुरक्षा बलों ने लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) के एक शीर्ष आतंकवादी बशीर लश्करी समेत दो आतंकवादियों को मार गिराया। पिछले महीने छह पुलिसकर्मियों की हत्या के पीछे लश्कर के इन्हीं आतंकवादियों का हाथ था। पुलिस ने बताया कि जिले के दियालगाम इलाके के ब्रेंती बटपोरा गांव में अभियान के दौरान 44 वर्षीय ताहिरा और 21 वर्षीय शादाब अहमद चोपन की मौत हो गई। पुलिस महानिदेशक एसपी वैद्य ने बताया कि मुठभेड़ खत्म हो गई है। दो आतंकवादियों को मार गिराया गया है। वैद्य ने कहा कि मारे गए आतंकवादियों की पहचान बशीर लश्करी और आजाद दादा के रूप में हुई है। दोनों एलईटी से संबद्ध थे। इससे पहले सुरक्षा बलों और गांव में एक घर के अंदर छुपे बैठे आतंकवादियों के बीच हुई गोलीबारी में ताहिरा की मौत हो गई, जबकि चोपन कथित रूप से मुठभेड़ स्थल के पास प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सुरक्षा बलों की कार्रवाई में मारा गया।पुलिस के एक  अधिकारी ने बताया कि चोपन के चेहरे पर गोली लगने के निशान थे और यहां के एसकेआइएमएस अस्पताल में उसे मृत घोषित कर दिया गया था। उन्होंने बताया कि मुठभेड़ स्थल के पास गोली लगने से घायल हुए चार अन्य लोगों को भी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

पुलिस के अनुसार लश्करी और उसके साथी 16 जून को दक्षिण कश्मीर के अचबल इलाके में थाना प्रभारी फिरोज अहमद डार और पांच अन्य पुलिसकर्मियों की हत्या में शामिल थे। इन्होंने पुलिसकर्मियों के शव भी क्षतविक्षत कर दिए थे। तब कश्मीर पुलिस ने इन आतंकवादियों को जल्द से जल्द ढूंढ कर सजा देने का वादा किया था। उस घटना के पंद्रह दिन बाद ही सुरक्षा बलों ने लश्करी को ढेर कर अपना वादा पूरा कर दिया। एक पुलिस अफसर ने बताया कि अनंतनाग के ब्रेंती बटपोरा में लश्करी सहित आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद शनिवार तड़के सुरक्षा बलों ने इलाके को घेर कर खोज अभियान शुरू किया। हालांकि सुरक्षा बलों को मौके पर स्थानीय जनता के प्रतिरोध का भी सामना करना पड़ा।
उन्होंने बताया कि खोज अभियान के दौरान आतंकवादियों ने सुरक्षा बलों पर गोलीबारी शुरू कर दी जिसके बाद खोज अभियान मुठभेड़ में तब्दील हो गया। पुलिस के एक प्रवक्ता ने बताया कि आतंकवादियों ने 17 आम लोगों का इस्तेमाल ह्यमानव ढालह्ण के तौर पर किया था। बहरहाल, आतंकवादियों के खिलाफ अंतिम हमला शुरू करने से पहले सुरक्षा बल इन नागरिकों को बचाने में सफल रहे।

 

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.