ताज़ा खबर
 

जम्मू कश्मीर: राज्य सरकार में मंत्री फारुख अंद्राबी के घर पर आतंकी हमला, सुरक्षाकर्मी घायल

झड़प के बाद आतंकी सुरक्षाकर्मी के हथियार लेकर फरार हो गए।

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में पीडीपी नेता और राज्य सरकार में मंत्री फारुख अंद्राबी के घर पर रविवार रात आतंकी हमला हुआ।

जम्मू कश्मीर के अनंतनाग में पीडीपी नेता और राज्य सरकार में मंत्री फारुख अंद्राबी के घर पर रविवार रात आतंकी हमला हुआ। इस आतंकी हमले के वक्त मंत्री फारुख अंद्राबी घर पर नही थे। आतंकियों और मंत्री के सुरक्षाकर्मियों के बीच झड़प भी हुई। जिसमें सुरक्षाकर्मी घायल हो गए। इस झड़प के बाद आतंकी सुरक्षाकर्मी के हथियार लेकर फरार हो गए। पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि आतंकवादियों ने अनंतनाग जिले के दूरू स्थित हज और वक्फ राज्य मंंत्री अंद्राबी के आवास पर हमला किया और एक पुलिसकर्मी को घायल कर दिया। उन्होंने बताया कि घायल पुलिसकर्मी को यहां स्थित एक अस्पताल में इलाज के लिए ले जाया गया है। घटना के बारे में और जानकारी का इंतजार है।

पुलिस पर हमला करने वाले दो आतंकी ढेर

हिज्बुल मुजाहिदीन के दो आतंकवादी रविवार को उस समय मारे गए जब रविवार को उन्होंने दक्षिणी कश्मीर के पुलवामा जिले में एक पुलिस दल पर घात लगाकर हमले की कोशिश की। पुलिस दल में अधीक्षक रैंक के तीन अधिकारी शामिल थे। वहीं आतंकवादियों ने शनिवार रात बड़गाम जिले के एक पुलिस उप निरीक्षक के आवास में घुस कर तोड़ फोड़ की। आतंकी पुलिसकर्मी के बेटे और भतीजे को बंधक बना कर अपने साथ ले गए और बाद में रिहा कर दिया। एक अन्य घटना में तीन युवकों ने एक मौलवी के सुरक्षा अधिकारी की एके 47 राइफल छीन ली।  पुलिस ने बताया कि घटना दक्षिणी कश्मीर में अवंतीपुरा और पुलवामा जिलों की सीमा पर स्थित पदगमपुरा में हुई जब आतंकवादी पीछे से आए और अधिकारियों के काफिले पर अंधाधुंध गोलीबारी शुरू कर दी। काफिले में अंतिम वाहन 32 साल के चंदन कोहली का था जो आतंकवाद प्रभावित पुलवामा जिले में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के रूप में तैनात हैं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि खोली ने अपने सुरक्षाकर्मियों के साथ मिलकर (जिन्हें अवंतीपुरा और पुलवामा के वरिष्ठ अधीक्षकों क्रमश: जाहिद मलिक तथा रईस मोहम्मद भट की ओर से तुरंत सहायता मिली) दो आतंकवादियों को मार गिराया।

सूत्रों ने बताया कि दोनों आतंकवादियों को कार में लेकर आया चालक मुठभेड़ शुरू होते ही भाग गया। उसकी तलाश की जा रही है। यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि उसे अगवा किया गया था या वह आतंकी नेटवर्क का हिस्सा था।शीर्ष पुलिस अधिकारी अनंतनाग और श्रीनगर में होने जा रहे लोकसभा उपचुनाव के सिलसिले में मुख्य निर्वाचन अधिकारी के साथ बैठक कर लौट रहे थे। दक्षिणी कश्मीर के पुलिस उपमहानिरीक्षक एस पाणि ने बताया कि पुलिस ने एक एसएलआर सहित दो हथियार, एक हथगोला और कुछ गोला-बारूद बरामद किया है।  पदगमपुरा में विगत में कई मुठभेड़ हो चुकी है। यहां हिज्बुल मुजाहिदीन और लश्कर ए तैयबा जैसे आतंकी संगठनों की मौजूदगी मानी जाती है। शोपियां और कुलगांव जिलों में आतंकवाद पर नकेल कसने में सराहनीय भूमिका निभा चुके पाणि ने तुरंत कार्रवाई कर दो आतंकियों को ढेर करने वाले पुलिसकर्मियों की सराहना की।

मारे गए आतंकवादियों में से एक की पहचान शाहबाज सफी वानी उर्फ रईस काचरू के रूप में हुई है, जो इलाके में जून 2016 से सक्रिय था। अधिकारी ने कहा कि वानी पुलवामा जिले के तुमलाहाल स्थित अल्पसंख्यक शिविर के बाहर एक सुरक्षा चौकी पर हमले और दो एसएलआर और मैग्जीन छीनने की घटनाओं में शामिल था। दूसरे आतंकवादी की पहचान शोपियां निवासी फारूक अहमद हुर्रा के रूप में हुई है। उसने 2010 में समर्पण कर दिया था। इन दिनों वह पैरोल पर था। कश्मीर रेंज के पुलिस महानिरीक्षक एसजेएम गिलानी ने कहा, ‘घटनास्थल पर मौजूद हमारे अधिकारियों के मुताबिक शायद एक आतंकवादी भागने में सफल रहा।’

एक अन्य घटना में पुलिस के मुताबिक आतंकवादियों ने श्रीनगर के चंदूरा क्षेत्र स्थित उप निरीक्षक एम सुभान भट्ट के मकान में घुस कर तोड़फोड़ की। पुलिस सूत्रों के मुताबिक आतंकवादियों ने बताया कि वह पुलिस अधिकारी की हत्या करना चाहते थे, जो फिलहाल उस जेल में तैनात हैं, जहां आंतकवादी से नेता बने मसरत आलम बंद हैं। उन्होंने बताया कि आतंंकवादियों ने कार को आग लगाने से पहले बंधक बनाए दोनों लड़कों को धमकाया और हवा में कई गोलियां चलाईं। पुलिस महानिदेशक एसपी वैद्य ने कहा कि घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी। पुलिस ने लड़कों और पड़ोसियों से पूछताछ के बाद आतंकवादियों को पकड़ने के लिए अभियान शुरू किया है।

जेलों के महानिदेशक एसके मिश्र ने बताया कि राज्य के विभिन्न जेलों में तैनात अपने जवानों और उनके परिवारों की सुरक्षा सुनिश्चत करने के लिए सोमवार को एक समीक्षा बैठक बुलाई है।

वहीं एक दूसरी घटना में जम्मू में मोटरसाइकिल-सवार तीन युवकों ने एक मौलवी के निजी सुरक्षा अधिकारी (पीएसओ) पर धारदार वस्तु से से हमला किया, उनकी आंखों में मिर्च का पाउडर फेंक दिया और उनकी एके-47 राइफल छीन ली। चेनानी-नाशरी सुरंग के उद्घाटन के लिए दो अप्रैल को शहर में प्रधानमंत्री की यात्रा को देखते हुए घटना के बाद शहर में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। एक पुलिस अधिकारी ने रविवार को बताया कि अंजुमन मिनहाज-ए-रसूल के अध्यक्ष मौलाना देहलवी के पीएसओ, कांस्टेबल मोहम्मद हनीफ शनिवार रात को जिला पुलिस लाइंस जा रहे थे तब उन पर हमला किया गया। हनीफ पैदल ही जा रहे थे। पुलिस ने मामले में दो संदिग्धों मसूद और शाहिद को हिरासत में लिया है, जबकि एके-47 राइफल के साथ फरार होने वाले तीसरे आरोपी आसिफ की तलाश की जा रही है। मसूद शोपियां का निवासी है। तीनों पत्थरबाजी के मामले में शामिल थे और पिछले कुछ समय से लापता थे।घायल पुलिस कांस्टेबल को श्रीनगर के गर्वनमेंट मेडिकल कॉलेज (जीएमसी) में दाखिल कराया गया है।

योगी आदित्यनाथ इन तस्वीरों पर भी गौर कर लेते तो गैरभाजपाई वोटर्स भी हो जाते मुरीद

लंदन: संसद पर आतंकी हमले में हमलावर समेत 5 की मौत, पीएम मोदी ने की हमले की निंदा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App