ताज़ा खबर
 
title-bar

जम्‍मू-कश्‍मीर: ड्यूटी निभा रहा था 22 साल का फौजी, पत्‍थरबाजों ने मार डाला

सेना ने शुक्रवार को उन्हें तथा दो अन्य जवानों- लांस नायक ब्रजेश कुमार, सिपाही एनगमसियामलियाना को श्रद्धांजलि दी। दोनों जवान कश्मीर घाटी में अलग अलग आतंकवाद-निरोधक अभियानों में मारे गए थे।

Author October 27, 2018 1:25 PM
सिपाही राजेंद्र सिंह गुरुवार को सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के काफिले को सुरक्षा प्रदान करने वाले क्यूआरटी दल में शामिल थे। शाम करीब छह बजे जब काफिला एनएच-44 के पास अनंतनाग बाईपास तिराहे से गुजर रहा था तो कुछ युवकों ने वाहन पर पथराव किया और सिर पर एक पत्थर लगने से सिंह घायल हो गए। (Twitter/ChinarCorps)

कश्मीर घाटी में कुछ युवकों द्वारा किए गए पथराव में सिर में चोट लगने से घायल हुए सेना के एक जवान की शुक्रवार (26 अक्टूबर, 2018) को यहां अस्पताल में मौत हो गई। सेना के एक अधिकारी ने बताया, ‘सिपाही राजेंद्र सिंह गुरुवार को सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) के काफिले को सुरक्षा प्रदान करने वाले क्यूआरटी दल में शामिल थे। शाम करीब छह बजे जब काफिला एनएच-44 के पास अनंतनाग बाईपास तिराहे से गुजर रहा था तो कुछ युवकों ने वाहन पर पथराव किया और सिर पर एक पत्थर लगने से सिंह घायल हो गए।’ अधिकारी ने बताया कि सिंह को तत्काल प्राथमिक चिकित्सा प्रदान की गई और 92 बेस अस्पताल पहुंचाया गया जहां उन्होंने दम तोड़ दिया। उत्तराखंड के बडेना गांव निवासी सिंह 2016 में सेना में भर्ती हुए थे और उनके परिवार में उनके माता-पिता हैं।

इसके अलावा रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने बताया कि सिपाही राजेंद्र सिंह त्वरित प्रतिक्रिया टीम का हिस्सा थे, जो सीमा सड़क संगठन(बीआरओ) के दस्ते को गुरुवार को सुरक्षा मुहैया करा रही थी। प्रवक्ता ने कहा, “जब दस्ता अनंतनाग बाइपास से शाम छह बजे गुजर रहा था, कुछ युवकों ने वाहन पर पथराव किया। पत्थर राजेंद्र सिंह के सर पर लगा।”

सेना ने शुक्रवार को उन्हें तथा दो अन्य जवानों- लांस नायक ब्रजेश कुमार, सिपाही एनगमसियामलियाना को श्रद्धांजलि दी। दोनों जवान कश्मीर घाटी में अलग अलग आतंकवाद-निरोधक अभियानों में मारे गए थे। अधिकारी ने कहा, ‘बदामीबाग छावनी इलाके में एक समारोह में सेना की चिनार कोर के जनरल आफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल ए के भट्ट और सभी अधिकारियों ने गौरवान्वित देश की ओर से शहीदों को श्रद्धांजलि दी।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App