ताज़ा खबर
 

पुलवामा जिले में भी कर्फ्यू लगा, घाटी में धारा-144 जारी

हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद शुरू हुई हिंसा के कारण दो पुलिसकर्मियों समेत 66 लोगों की मौत हो चुकी है

Author श्रीनगर | August 25, 2016 12:12 PM
श्रीनगर में कश्मीरी मुस्लिम युवक चेहरे पर नकाब पहने और हाथ में (दाएं) लश्कर-ए-तैएबा और पाकिस्तान का झंडा लेकर विरोध प्रदर्शन करते हुए। (File Photo by AP/Dar Yasin)

पुलवामा जिले में भी गुरुवार (25 अगस्त) को कर्फ्यू लगा दिया है जबकि श्रीनगर और अनंतनाग शहर के कुछ इलाकों में कर्फ्यू पहले से जारी है। हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद शुरू हुई हिंसा के कारण घाटी के शेष हिस्सों में लोगों के एकत्र होने पर गुरुवार को लगातार 48 वें दिन प्रतिबंध लगा हुआ है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि शहर के प्रमुख इलाकों के पांच थाना क्षेत्रों और बाहरी क्षेत्र के बटमालू और मैसूमा इलाके में कर्फ्यू जारी है। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में भी कर्फ्यू लगा दिया गया है जबकि कानून-व्यवस्था के मद्देनजर अनंतनाग में गुरुवार को भी कर्फ्यू जारी रहेगा।

बुधवार (24 अगस्त) पुलवामा में झड़पों के दौरान सुरक्षा बलों की कार्रवाई में एक युवक की मौत हो गई थी जिसके मद्देनजर यहां कर्फ्यू लगाया गया है। मंगलवार (23 अगस्त) को स्थिति में सुधार को देखते हुये प्रशासन ने श्रीनगर के अधिकांश इलाकों से कर्फ्यू हटा लिया था। प्रतिबंध हटाए जाने के बाद से पिछले दो दिनों में शहर के बीचोबीच स्थित लाल चौक के आसपास निजी कारों और ऑटोरिक्शा यातायात में बढ़ोतरी हो गई है। हालांकि, अधिकारी ने बताया कि कानून और व्यवस्था को बनाए रखने के लिए घाटी के शेष हिस्सों में चार या अधिक लोगों के एकत्र होने पर दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 के तहत लगा प्रतिबंध जारी है।

इस बीच, कर्फ्यू, प्रतिबंधों और अलगाववादियों के बंद के आह्वान के कारण लगातार 48वें दिन जनजीवन प्रभावित हुआ है। दुकानें, निजी कार्यालय, शिक्षण प्रतिष्ठान और पेट्रोल पंप बंद हैं जबकि सार्वजनिक वाहन सड़कों से नदारद हैं। अधिकारी ने बताया कि सरकारी कार्यालयों और बैंकों में भी उपस्थिति प्रभावित हुई है। पूरे घाटी में मोबाइल पर इंटरनेट सेवा भी लगातार बंद ही है जबकि प्रीपेड मोबाइल से आउटगोइंग सुविधा पर रोक लगी हुई है। वानी के मारे जाने के खिलाफ हुए प्रदर्शन के दौरान नागरिकों की मौत के खिलाफ आंदोलन की अगुवाई कर रहे अलगाववादी गुट ने घाटी में एक सितंबर तक बंद का आह्वान किया है। अब तक दो पुलिसकर्मियों समेत 66 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि कई हजार लोग घायल हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App