ताज़ा खबर
 

अलगाववादियों के आह्वान पर कशमीर में लगातार 103वें दिन रहा बंद

छात्र नवम्बर में परीक्षा के आयोजन का विरोध कर रहे हैं और इसे अगले साल मार्च तक स्थगित करना कराना चाहते हैं। घाटी में यह तेजी से महसूस किया जाने लगा है कि सरकार और अलगाववादी, दोनों शिक्षा के नाम पर राजनीति बंद कर दें और छात्रों के भविष्य सुरक्षित करने के लिए सभी प्रयास किए जाएं।
Author नई दिल्ली | October 19, 2016 16:46 pm
भारतीय सुरक्षाबलों के लिए आधुनिक असॉल्‍ट राइफल, हेलमेट और कवच जैसी चीजों के लिए खरीदारी का काम शुरू किया गया है। (एक्सप्रेस फोटो-शोएब मसूदी)

अलगाववादियों के आह्वान पर कश्मीर घाटी में बंद से लगातार 103वें दिन जनजीवन पंगू बना रहा। हालांकि प्रशासन ने बुधवार को कहीं भी कोई कर्फ्यू या प्रतिबंध नहीं लगाया। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि बुधवार कहीं भी कोई कर्फ्यू या प्रतिबंध नहीं लगाया गया है। पूरी घाटी में कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए पर्याप्त सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं। घाटी में मुख्य बाजार, सार्वजनिक परिवहन और अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठान लगातार 103वें दिन बंद रहे। शैक्षिणिक संस्थानों के पिछले 103 दिनों से बंद रहने से छात्र बुरी तरह प्रभावित हुए हैं। वे गत तीन से ज्यादा महीनों से स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालय नहीं गए हैं। जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और राज्य के शिक्षा मंत्री नईम अख्तर ने कहा है कि 10वीं और 12वीं के लिए बोर्ड परीक्षाएं नवम्बर में होंगी। हालांकि, मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के विद्यालय शिक्षा बोर्ड को प्रश्न पत्र बनाते समय छात्रों को राहत देने के लिए के लिए कहा गया है। उन्होंने बोर्ड से यह सुनिश्चित करने को कहा कि परीक्षार्थियों से केवल इस साल जून के अंत तक पढ़ाए गए पाठ्यक्रम के भाग से संबंधित प्रश्न पूछे जाएं।

Speed News: जानिए दिन भर की पांच बड़ी खबरें

छात्र नवम्बर में परीक्षा के आयोजन का विरोध कर रहे हैं और इसे अगले साल मार्च तक स्थगित करना कराना चाहते हैं। घाटी में यह तेजी से महसूस किया जाने लगा है कि सरकार और अलगाववादी, दोनों शिक्षा के नाम पर राजनीति बंद कर दें और छात्रों के भविष्य सुरक्षित करने के लिए सभी प्रयास किए जाएं।

Read Also: कश्मीर: बैरक में लटकी मिली आर्मी जवान की लाश

बता दें कि जम्मू कश्मीर में तैनात एक जवान की लाश बुधवार (19 अक्टूबर) को उसके रहने वाले बैरक से बरामद की गई। जिस जवान की लाश मिली है उसका नाम अनिल बूरा बताया जा रहा है। वह जम्मू कश्मीर के मेंढर में तैनात था। उसका बैरक भी वहीं पर था। अनिल की उम्र कुल 23 साल बताई गई है। शुरुआती जांच में सुसाइड की बात सामने आई है। अनिल अपने बैरक में छत से लटका हुआ मिला था।

Read Also: कश्मीर: सुरक्षा बलों ने बरामद किए चीन-पाक के झंडे और बम, शक के आधार पर 44 लोगों को गिरफ्तार किया

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.