ताज़ा खबर
 

कश्मीर में आतंकवादियों से कितना पैसा जब्त हुआ, नहीं बताएगा केंद्र

वित्त मंत्रालय के आंकड़ों में हालांकि, यह स्पष्ट रूप से सामने आया है कि नोटबंदी के बाद जम्मू-कश्मीर में बैंकों, कैश वैन एवं एटीएम की लूट के मामलों में करीब चार गुना वृद्धि हुई है।

Author नई दिल्ली | March 27, 2017 11:19 AM
इस एजंसी पर भारतीय बैंकिंग और अन्य वित्तीय चैनलों में संदिग्ध लेन-देन का विश्लेषण का जिम्मा है।

केंद्र सरकार ने नोटबंदी के बाद जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों से जब्त भारतीय मु्रदा के संबंध में यह कहते हुए जानकारी देने से इंकार कर दिया कि सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 जम्मू कश्मीर पर लागू नहीं होता। सूचना का अधिकार कानून के तहत गृह मंत्रालय के जम्मू-कश्मीर प्रभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार, इस बारे में सूचना केंद्रीय जन संपर्क अधिकारी के पास उपलब्ध नहीं है। जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों से जब्त भारतीय मुद्रा के संबंध में यह उल्लेख किया जाता है कि इससे जुड़ी सूचना जम्मू-कश्मीर राज्य से संबंधित है। आप यदि पात्र हों,तो जम्मू- कश्मीर सूचना का अधिकार अधिनियम 2009 के तहत सूचना प्राप्त कर सकते हैं। सूचना का अधिकार अधिनियम 2005 जम्मू-कश्मीर में लागू नहीं है। आरटीआई के तहत 8 नवंबर को नोटबंदी के निर्णय के बाद जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों से जब्त भारतीय मुद्रा के बारे में जानकारी मांगी गई थी। वित्त मंत्रालय के आंकड़ों में हालांकि, यह स्पष्ट रूप से सामने आया है कि नोटबंदी के बाद जम्मू-कश्मीर में बैंकों, कैश वैन एवं एटीएम की लूट के मामलों में करीब चार गुना वृद्धि हुई है।

HOT DEALS
  • Sony Xperia XA1 Dual 32 GB (White)
    ₹ 17895 MRP ₹ 20990 -15%
    ₹1790 Cashback
  • Vivo V5s 64 GB Matte Black
    ₹ 13099 MRP ₹ 18990 -31%
    ₹1310 Cashback

संसद में पेश वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले वर्ष जुलाई से सितंबर माह तक जम्मू-कश्मीर में बैंकों, कैश वैन और एटीएम की लूट के चार मामलों में 19.55 लाख रुपए लूटे गए जबकि अक्तूबर से दिसंबर 2016 तक ऐसे 15 मामलों में 1.48 करोड़ रुपए की लूट हुई। दूसरी ओर, संसद में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में वित्त मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के हवाले से बताया गया है कि देश के विभिन्न राज्यों में पिछले वर्ष जुलाई से सितंबर माह तक बैंकों, कैश वैन और एटीएम की लूट के 245 मामलों में 11.68 करोड़ रुपए की लूट हुई जबकि अक्तूबर से दिसंबर 2016 में बैंकों, कैश वैन और एटीएम की लूट के 271 मामले दर्ज किए गए जिसमें 12.85 करोड़ रुपए की लूट हुई। पिछले वर्ष जुलाई से सितंबर तक आंध्र प्रदेश में बैंकों, कैश वैन और एटीएम की लूट के 11 मामले हुए जो अक्तूबर से दिसंबर 2016 में घटकर 8 रह गए। अक्तूबर से दिसंबर के बीच 14.31 लाख रुपए की लूट हुई। वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, बिहार में पिछले वर्ष जुलाई से सितंबर माह तक बैंकों, कैश वैन और एटीएम की लूट के 25 मामलों में 33.92 लाख रुपए लूटे गए जबकि अक्तूबर से दिसंबर 2016 में ऐसे मामले बढ़कर 39 हो गए हालांकि लूटी गई राशि घटकर 23.67 लाख रुपए रही।

उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 8 नवंबर को 500 रुपए और 1000 रुपए के नोटों को प्रचलन से बाहर करने की घोषणा की थी। छत्तीसगढ़ में जुलाई से सितंबर 2016 के बीच बैंकों में लूट के 2 मामलों में 9.51 लाख रुपए की लूट हुई जो अक्तूबर से दिसंबर 2016 के दौरान बढ़कर तीन हो गई और इसमें 48.17 लाख रुपए की लूट हुई। वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, हरियाणा में जुलाई से सितंबर माह के बीच कैश वैन और एटीएम की लूट के 13 मामलों में 18.16 लाख रुपए की लूट हुई जो अक्तूबर से दिसंबर 2016 के दौरान बढ़कर 30 हो गई और इसमें 2.48 करोड़ रुपए की लूट हुई। झारखंड में जुलाई से सितंबर के बीच बैंकों में लूट के 7 मामलों में 10.53 लाख रुपए की लूट हुई जबकि अक्तूबर से दिसंबर 2016 के दौरान ऐसे मामले बढ़कर 11 हो गए और इसमें 81.47 लाख रुपए की लूट हुई। कर्नाटक में जुलाई से सितंबर के बीच बैंकों में लूट के 6 मामलों में 14.64 लाख रुपए की लूट हुई जबकि अक्तूबर से दिसंबर 2016 के दौरान ऐसे मामले बढ़कर 8 हो गए और इसमें 28.73 लाख रुपए की लूट हुई। मध्य प्रदेश में अक्तूबर से दिसंबर 2016 के दौरान कैश वैन और एटीएम लूट के 12 मामले दर्ज किए गए और इसमें 36.25 लाख रुपए की लूट हुई। महाराष्ट्र में जुलाई से सितंबर के बीच बैंकों, एटीएम में लूट के 15 मामलों में 9.22 लाख रुपए की लूट हुई जबकि अक्तूबर से दिसंबर 2016 के दौरान ऐसे मामले 13 रहे और इसमें 48.49 लाख रुपए की लूट हुई। ओड़ीसा, पंजाब, राजस्थान जैसे राज्यों में अक्तूबर से दिसंबर के दौरान बैंकों, कैशवैन, एटीएम में लूट की घटनाओं में गिरावट दर्ज की गई।

 

प्लास्टिक के तिरंगों से केंद्र सरकार सख्त, दी सलाह- जहां तक हो सके, न करें इस्‍तेमाल

पीएम मोदी ने यूपी के सांसदों से कहा- "मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कोई सिफारिश न करें"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App