ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर: महबूबा मुफ्ती की जनता से अपील- शांति बहाल होने दीजिए, भारत-पाकिस्तान संबंधों पर ‘अच्छा असर’ होगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार विकास और वार्ता के दोहरे उद्देश्य पर काम करेगी और उन्होंने राज्य के लोगों से कहा कि ‘विकास को एक मौका दें।’

Author श्रीनगर | Published on: December 27, 2016 4:30 PM
Mehbooba Mufti, Jammu kashmir news, Mehbooba Mufti News, Mehbooba Mufti latest newsसंसद भवन में जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती। (PTI Photo by Subhav Shukla/28 Nov, 2016)

जम्मू-कश्मीर के लोगों से ‘शांति को एक मौका देने’ की अपील करते हुए मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि वार्ता और विकास के लिए यह आवश्यक है और भारत-पाकिस्तान संबंधों पर इसका ‘अच्छा असर’ होगा। दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में सोमवार को कई विकास परियोजनाओं की शुरुआत करने के बाद महबूबा ने लोगों से बात करते हुए कहा, ‘विकास और वार्ता के उद्देश्य को पूरा करने के लिए शांति और धैर्य का सौहार्दपूर्ण माहौल बनाने की जरूरत है।’ उन्होंने कहा, ‘विकास और वार्ता के लिए अनुकूल माहौल बनाने की खातिर मैं लोगों से सहयोग करने की अपील करती हूं।’

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार विकास और वार्ता के दोहरे उद्देश्य पर काम करेगी और उन्होंने राज्य के लोगों से कहा कि ‘विकास को एक मौका दें।’ महबूबा ने कहा, ‘राज्य में सौहार्द्रपूर्ण और शांतिपूर्ण माहौल सुनिश्चित करना जम्मू-कश्मीर के लोगों की बड़ी जिम्मेदारी है ताकि दोनों पड़ोसी देशों (भारत और पाकिस्तान) के बीच संबंधों पर इसका अच्छा असर हो।’ उन्होंने अफसोस जताया कि पिछले कुछ महीने की अशांति के दौरान समाज के हर तबके को नुकसान हुआ है जिससे राज्य में कई विकास परियोजनाओं में भी विलंब हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने राज्य के लिए कई बड़े विकास कार्यक्रम की योजना बनाई थी और लोगों से कहा कि इसे सफलतापूर्वक लागू करने के लिए अपना सहयोग दें।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पश्चिमी पाकिस्‍तान के हिंदुओं को पहचान पत्र पर कश्‍मीर में बवाल तो जम्‍मू में रोहिंग्‍या मुसलमानों पर हल्‍ला
2 दिसंबर की सर्द रातें और चिनारों पर बर्फ, श्रीनगर ने ओढ़ी रेशम की रजाई
3 पंपोर में क्यों बढ़ रहे हैं आतंकवादी हमले