Kashmir valley Normal Life struck 114 day - कश्मीर घाटी में रहा 114 वें दिन भी जनजीवन प्रभावित - Jansatta
ताज़ा खबर
 

कश्मीर घाटी में रहा 114 वें दिन भी जनजीवन प्रभावित

घाटी में मौजूदा अशांति के चलते दो पुलिसकर्मियों समेत 85 लोगों की जान चा चुकी है और कई हजार लोग घायल हो गए हैं।

Author श्रीनगर | October 30, 2016 5:07 PM
कश्मीर के बारिपुरा मिलिट्री बेस की तस्वीर। यहां भारत-पाक की सीमा है। Sept. 21, 2016. (AP Photo)

अलगाववादियों के आह्वान पर हड़ताल के चलते कश्मीर में लगातार 114 वें दिन रविवार (30 अक्टूबर) भी सामान्य जनजीवन प्रभावित रहा। वैसे प्रशासन ने किसी भी तरह की बंदिश नहीं लगायी थी लेकिन अलगवादियों द्वारा आहूत हड़ताल के चलते सामान्य गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित रहीं। हालांकि यहां साप्ताहिक रविवार बाजार में बड़ी संख्या में रेहड़ी-पटरी वालों ने दुकानें सजा रखी थीं और शहर में सड़कों पर निजी कारें और ऑटोरिक्शा चल रहे थे। लेकिन घाटी के बाकी हिस्सों में अलगाववादियों की हड़ताल के चलते सामान्य जनजीवन प्रभावित रहा। दुकानें, पेट्रोल पंप और व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद है। शाम को उनके खुलने की संभावना है क्योंकि अलगाववादियों ने पांच बजे के बाद हड़ताल में ढील देने की घोषणा की है। कानून व्यवस्था बनाए रखने तथा लोगों में बिना भय के रोजना के कामकाज करने के प्रति सुरक्षाबोध पैदा करने के लिए महत्वपूर्ण स्थानों, मुख्य सड़कों पर एहतियात के तौर बड़ी संख्या में सुरक्षाबल तैनात किए गए हैं। सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में बुरहान वानी के मारे जाने के बाद अलगाववादी साप्ताहिक प्रदर्शन कैलैंडर जारी कर रहे हैं। वे आत्मनिर्णय के अधिकार की मांग को लेकर आंदोलन चला रहे हैं। घाटी में मौजूदा अशांति के चलते दो पुलिसकर्मियों समेत 85 लोगों की जान चा चुकी है और कई हजार लोग घायल हो गए हैं।

जनसत्ता की पूरी टीम की तरफ से आप सबको दिवाली और धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App