ताज़ा खबर
 

कश्मीर के अनेक स्थानों में शुक्रवार की नमाज़ से पहले फिर कर्फ्यू

अलगाववादियों ने बंद का अपना कार्यक्रम 16 सितंबर तक के लिए बढ़ा दिया है। घाटी के सभी स्कूल, कॉलेज और अन्य शैक्षिक संस्थान भी बंद रहे।

Author श्रीनगर | Published on: September 9, 2016 6:30 PM
कश्‍मीर में हिजबुल आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद से प्रदर्शन चल रहा है। (Photo: AP)

जुमे की नमाज से पहले कानून व्यवस्था बरकरार रखने के लिए कश्मीर के अनेक स्थानों में शुक्रवार (9 सितंबर) को फिर से कर्फ्यू लगा दिया गया। सुरक्षा बलों के हाथों हिज्बुल मुजाहिदीन आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद शुरू हुए विरोध प्रदर्शनों से घाटी में लगातार 63वें दिन भी जनजीवन प्रभावित रहा। अभी तक 73 लोगो की मौत हो चुकी है, जबकि हजारों लोग घायल हुए हैं। पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘जुमे की नमाज के बाद हिंसक विरोध प्रदर्शन की आशंका से एहतियाती तौर पर घाटी के प्रमुख शहरों और श्रीनगर के अनेक स्थानों में कर्फ्यू लगा दिया गया है।’

उन्होंने बताया कि जम्मू कश्मीर की गर्मियों की राजधानी श्रीनगर और अनंतनाग, पुलवामा, कुलगाम, शोपियां, पांपोर, अवंतीपुरा, त्राल, बारामुला, पट्टन और पलहल्लन शहरों समेत कुल 14 पुलिस थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लगाया गया है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा शेष घाटी में लोगों की आवाजाही और एक स्थान पर एकत्रित होने को प्रतिबंधित कर दिया गया है। कर्फ्यू और अलगाववादियों के बंद के आह्वान के कारण घाटी का जनजीवन बाधित है। राज्य में दुकानें, व्यावयायिक प्रतिष्ठान और पेट्रोल पंप बंद हैं। अलगाववादियों की ओर से गुरुवार (8 सितंबर) शाम छह बजे हड़ताल में 12 घंटे की छूट दिए जाने की घोषणा के बाद श्रीनगर और अन्य इलाकों के बाजार गुरुवार शाम देर तक खुले रहे।

अलगाववादियों ने बंद का अपना कार्यक्रम 16 सितंबर तक के लिए बढ़ा दिया है। घाटी के सभी स्कूल, कॉलेज और अन्य शैक्षिक संस्थान भी बंद रहे। पिछले चार दिनों से सरकारी कार्यालयों और बैंकों में कर्मचारियों की उपस्थिति में कुछ बढ़ोतरी देखी जा रही थी, जबकि कर्फ्यू और हिंसा की आशंका के कारण शुक्रवार को कर्मचारियों की उपस्थिति फिर से कम हो गई। सड़कों और गलियों में पिछले कुछ दिनों से निजी वाहनों की आवाजाही बढ़ गई थी। आज वह फिर से कम हो गई। सड़कों से यातायात के साधन भी नदारद रहे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 अलगाववादी नेता गिलानी बोले-पाकिस्‍तान हमारा दोस्‍त और भारत हमारा कब्‍जेदार
2 कश्मीर से कर्फ्यू/प्रतिबंध हटा, कुलगाम में पुलिसकर्मियों की राइफलें लेकर भागे आतंकी
3 राष्ट्रीय संप्रभुता से कोई समझौता नहीं : राजनाथ