ताज़ा खबर
 

कश्मीर में स्कूलों के जलाए जाने के बीच महबूबा मुफ्ती सरकार ने कोर्ट में साफ़ कहा- हर स्कूल को नहीं दे सकते सुरक्षा

जुलाई महीने की शुरुआत में हिज्बुल मुजाहिदीन आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद घाटी में अशांति शुरू हो गई थी। जिसके बाद से अब तक करीब 30 स्कूलों को जलाया जा चुका है।
Author November 8, 2016 09:11 am
जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती। (Photo Source: PTI/File)

जम्मू कश्मीर हाईकोर्ट ने पिछले महीने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को स्कूलों को महफूज रखने के तौर तरीके खोजने का निर्देश दिया था, जो घाटी में जारी अशांति के दौर में उपद्रवियों के निशाने पर हैं। इसके जवाब में जम्मू-कश्मीर सरकार ने मंगलवार को हाई कोर्ट में कहा कि घाटी के हर एक स्कूल को सुरक्षा दे पाना असंभव है, हालांकि सरकार ने साफ किया कि स्कूल बिल्डिंग की सुरक्षा के लिए एक व्यापक योजना तैयार की गई है। एडिशनल एडवोकेट जनरल बशीर अहमद दार कोर्ट को बताया, “घाटी में 15000 स्कूल हैं और हमने इन सभी को तीन कैटेगरी में बांट दिया है। यह कैटेगरी अतिसंवेदनशील, संवेदनशील और सामान्य है। इनमें से अधिकतर स्कूल घनी आबादी वाले इलाकों में है, जहां हर समय इंसानी सुरक्षा नहीं दी जा सकती।”

अदालत की एक खंडपीठ ने पिछले महीने कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक, संभागीय आयुक्त और कश्मीर के स्कूली शिक्षा निदेशक को निर्देश जारी किए थे और कहा था, ‘अदालत में मौजूद तीनों जिम्मेदार अधिकारियों को निर्देश दिया जाता है कि उच्च अधिकारियों और अन्य अधिकारियों के साथ बैठें और शिक्षण संस्थानों की सुरक्षा के लिए प्रभावी तौर तरीकों पर विचार करें।’ पुलिस महानिरीक्षक सय्यद मुजतबा गिलानी ने बताया स्कूलों के जलाए जाने को लेकर कोई खास रास्ता नहीं निकल पाया है। उन्होंने कहा “पिछले एक हफ्ते में करीब 9 स्कूलों को जलाने की कोशिश की गई है। इसमें करीब 20 लोगों को गिरफ्तार किया गया है और हर घटना के बाद एक विशेष जांच टीम तैयार की गई।”

वीडियो : पुलिस की लापरवाही के चलते अस्पताल से भागा बलात्कार आरोपी; CCTV में कैद हुई घटना

कश्मीर घाटी में स्कूलों को जलाए जाने की घटनाओं पर सोमवार को जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की थी। महबूबा ने इसकी तुलना आतंकवाद के सबसे खतरनाक रूप से करते हुए दोषियों पर सख्ती बरतने की बात कही थी। गौरतलब है कि जुलाई महीने की शुरुआत में हिज्बुल मुजाहिदीन आतंकवादी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद घाटी में अशांति शुरू हो गई थी। जिसके बाद से अब तक करीब 30 स्कूलों को जलाया जा चुका है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. No Comments.