ताज़ा खबर
 

कश्मीर: सेना की जीप में युवक को बंधा दिखाने वाले वीडियो पर पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

श्रीनगर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के बीरवाह इलाके में उपचुनाव के दौरान कथित तौर पर पथराव से बचने के लिए एक व्यक्ति को ढाल बनाकर जीप पर बांधने के मामले में पुलिस ने अज्ञात सैन्य कर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। श्रीनगर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में नौ अप्रैल को उपचुनाव के दौरान पथराव से बचने […]

Author श्रीनगर | Updated: April 17, 2017 2:16 PM
सेना की जीप पर बंधे इस युवक की तस्वीर वायरल हुई थी।

श्रीनगर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के बीरवाह इलाके में उपचुनाव के दौरान कथित तौर पर पथराव से बचने के लिए एक व्यक्ति को ढाल बनाकर जीप पर बांधने के मामले में पुलिस ने अज्ञात सैन्य कर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। श्रीनगर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में नौ अप्रैल को उपचुनाव के दौरान पथराव से बचने के लिए एक व्यक्ति को जीप पर बांधने का वीडियो वायरल होने के दो दिन बाद बीरवाह पुलिस थाने में मामला कल दर्ज किया गया। वीडियो की व्यापक स्तर पर निंदा की गई थी।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि रणबीर दंड संहिता की धारा 342 (गलत तरीके से किसी को कब्जे में रखना), 149 (साझा अपराध को अंजाम देने की नीयत से गैर कानूनी तरीके से एकत्र होने वाला हर व्यक्ति दोषी है), 506 (आपराधिक धमकी के लिए दंड) और 367 (किसी व्यक्ति को गंभीर चोट पहुंचाने के इरादे से उसका अपहरण करना) के तहत मामला दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि मामले की जांच उपाधीक्षक दर्जे के अधिकारी को सौंप दी गई है। बडगाम जिले में स्थित खानसाहिब के फारूक अहमद डार को जीप पर बैठा कर घुमाने का एक वीडियो 14 अप्रैल को वायरल हो गया था। वीडियो में एक सैनिक यह कहते हुए सुनाई दे रहा है, ‘‘पथराव करने वालों का यह अंजाम होगा।’’

गोलीबारी में युवक घायल

वहीं  शोपियां जिले में आतंकवादियों को पकड़ने गए सुरक्षा बलों पर गोलियां चलायी गईं।  पुलिस प्रवक्ता के अनुसार गोलीबारी के बाद भीड़ का फायदा उठा कर आतंकी सुरक्षा बलों को चकमा देकर भागने में सफल रहे।  घटना में एक नागरिक को गोली लगी, हालांकि यह नहीं पता चल पाया कि वह आतंकियों की या सुरक्षा बलों की गोलीबारी में घायल हुआ।  प्रवक्ता ने बताया कि शोपियां के हेफ गांव में आतंकियों की मौजूदगी के बारे में सूचना मिलने पर कार्रवाई करते हुए सुरक्षा बलों ने घेराबंदी की और तलाशी अभियान शुरू किया। उन्होंने बताया कि आतंकियों ने सुरक्षा बलों पर गोलियां चलायी और बाद में वहां पर जमा भीड़ का फायदा उठाते हुए भाग निकले।

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने अपने कर्मियों के लिए जारी किया परामर्श

हाल ही में हो रही तनातनी के बीच जम्मू-कश्मीर पुलिस ने अपने कर्मियों के लिए एक परामर्श जारी कर उनसे अगले कुछ माह तक अपने पैतृक स्थानों पर जाने से बचने को कहा है। उनके घरों और परिवार के सदस्यों पर आतंकियों के हमले के मद्देनजर यह कदम उठाया गया है। पुलिस मुख्यालय द्वारा परामर्श में घाटी की हालिया घटनाओं का हवाला दिया गया है, जिसमें आतंकियों, राष्ट्र विरोधी और असामाजिक तत्वों ने पुलिसकर्मियों की जान और माल को नुकसान पहुंचाया था। परामर्श में कहा गया है, ‘‘इन दुर्भाग्यपूर्ण घटनाओं के मद्देनजर पुलिसकर्मियों और खासकर दक्षिणी कश्मीर के रहने वाले पुलिस कर्मियों को अपने घर जाते समय बहुत अधिक सावधानी बरतने की सलाह दी जाती है। उनको अगले कुछ माह तक अपने घर जाने से बचना चाहिए क्योंकि उनकी व्यक्ति सुरक्षा सबसे अधिक महत्वपूर्ण है।’’

 

 

 

हैक हुआ हिजबुल मुजाहिद्दीन का ट्वीटर अकाउंट; लिखा- "कश्मीर भारत का हिस्सा"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ जवानों से मारपीट का वीडियो है असली, दर्ज हुई एफआईआर
जस्‍ट नाउ
X