ताज़ा खबर
 

मुठभेड़ में आम नागरिकों की मौत पर बोले जम्‍मू-कश्‍मीर के DGP- उस जगह पर आकर खुदकुशी कर रहे हैं युवा

इससे पहले सेना प्रमुख जनरल रावत भी ये कह चुके हैं कि एनकाउटंर के दौरान सेना के काम में दखल देने वाले लोगों को आतंकियों के जमीनी कार्यकर्ता माना जाएगा।

जम्मू-कश्मीर में प्रदर्शनकारियों और पत्थर फेंकने वाले लोगों पर पैलेट गन के इस्तेमाल पर लंबे समय से सवाल उठ रहे हैं।

जम्मू कश्मीर में सेना के ऑपरेशन के दौरान पत्थर मारने वाले स्थानीय लोगों को सुरक्षा बल अब और सहन करने के मूड़ में नहीं दिख रहा है। सेना के कई बड़े अधिकारी और राज्य की मुख्यमंत्री पहले भी कई बार सेना के ऑपरेशन के दौरान स्थानीय लोगों से दूर रहने की अपील कर चुके हैं। सुरक्षा बलों का कहना है कि आतंकियों से मठभेड़ के दौरान कई बार स्थानीय लोग आकर सेना पर पत्थर फेंकते हैं जिसके चलते कई बार आतंकी बचने में कामयाब हो जाते हैं और सेना के जवानों तक की जान इस पत्थरबाजी में जोखिम में पड़ जाती है। इसी विवाद पर  अब जम्मू कश्मीर पुलिस के डीजीपी एस पी वेद ने कहा है कि एनकाउंटर की जगह पर आकर जो युवा सुरक्षा बलों के काम में दखल दे रहे हैं असल में वो खुद ही आत्महत्या कर रहे हैं। एस पी वेद ने कहा कि दूसरी तरफ से जवान लड़कों को उकसाया जा रहा है। युवाओं को भड़काया जा रहा है। उन्हें एनकाउंटर की जगह पहुंचकर सुरक्षा बलों पर पत्थर फेंकने के लिए गुमराह किया जाता है। लेकिन इस सबके बावजूद हम उकसावे की कार्रवाई नहीं करते। हमारी कोशिश कम से कम नुकसान की होती है। गोली ये नहीं देखती है कि सामने कौन आ रहा है। युवाओं को चाहिए वो घर पर रहें और एनकाउंटर वाली जगह पर आने से बचें।

पिछले दिनों बडगाम जिले में आतंकवादियों से मुठभेड़ के दौरान स्थानीय लोगों की पत्थरबाजी से सुरक्षा बलों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। एनकाउंटर साइट पर मुठभेड़ के दौरान क्षेत्रियों लोगों की सुरक्षा बलों के साथ झड़प शुरु हो गई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पत्थबाजी के दौरान दो स्थानीय लोगों की मौत हो गई है और 17 लोग घायल हो गए हैं। एनकाउंटर के दौरान पत्थरबाजी रोकने के लिए सुरक्षा बलों को पत्थरबाजी कर रहे लोगों पर फायरिंग करनी पड़ी। पत्थरबाजी में सेना के भी कई जवान घायल हुए थे।

इससे पहले सेना प्रमुख जनरल रावत भी आतंकियों के साथ मुठभेड़ के दौरान सुरक्षा बलों पर पथराव करने वालों को कड़ी चेतावनी दे चुके हैं। उन्होंने कहा था कि ऐसे लोग आतंकियों के जमीनी कार्यकर्ता माने जाएंगे। सेना और जम्मू कश्मीर पुलिस के इस बयान के बाद आने वाले दिनों में हो सकता है सुरक्षा बल के जवान पत्थर फेंकने वालों से और सख्ती से निपटे।

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने कहा- "सूर्य नमस्कार और नमाज एक समान"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 आतंकियों ने कश्मीर में तैनात सीनियर पुलिस ऑफीसर के घर में लगाई आग, परिजनों के साथ की मारपीट
2 कश्मीर में आतंकवादियों से कितना पैसा जब्त हुआ, नहीं बताएगा केंद्र
3 जम्मू कश्मीर: राज्य सरकार में मंत्री फारुख अंद्राबी के घर पर आतंकी हमला, सुरक्षाकर्मी घायल
ये पढ़ा क्या?
X