ताज़ा खबर
 

पुलिसवालों की हत्‍या: श्रीनगर में आतंकवाद ने फिर दी दस्‍तक? जानें क्‍या कहती है अब तक की जांच

पुलिस के सूत्रों के अनुसार तीनों युवकों में से एक पुराने श्रीनगर का रहने वाला है। उनकी उम्र 20 से 30 साल के बीच की है।

Author श्रीनगर | Updated: May 26, 2016 7:52 PM
Srinagar, Srinagar shooting, J&K shooting, terrorists, srinagar terrorists, srinagar militants, militants, militants killed, Srinagar militants, militants, india news पुलिस का मानना है कि श्रीनगर के ही तीन लड़के इस आतंकी वारदात में शामिल हैं।

कश्मीर में मारे गए तीन पुलिसकर्मियों की जांच में पुलिस ने खुलासा किया है कि इस घटना में कश्मीर के स्थानीय युवकों का हाथ है। पिछले एक दशक में यह पहली घटना है कि स्थानीय लड़कों ने शहर में आतंकी घटना को अंजाम दिया है। सालों पहले पुलिस शहर को आतंक मुक्त घोषित कर चुकी है। सोमवार को जदीबल और तेनंगपुरा में मारे गए पुलिसकर्मियों की हत्या की जांच कर रही पुलिस का मानना है कि श्रीनगर के ही तीन लड़के इस आतंकी वारदात में शामिल  हैं।

एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि, ” हमें पता चला है कि श्रीनगर से तीन युवा गायब हैं और संभव है कि वे आतंकी संगठन में शामिल हो गए हो।” इम मामले की जानकारी तब हुई जब पुलिस ने हत्या के बाद दोनों जगहों के सीसीटीवी फुटेज की जांच की। पुलिस अधिकारी ने बताया, ” सीसीटीवी फुटेज देखकर हमें पता चला की वें इस हत्याकांड में शामिल हैं। उन्हें पहचान लिया गया है लेकिन अभी वे छिपे हुए हैं।”

पुलिस के सूत्रों के अनुसार तीनों युवकों में से एक पुराने श्रीनगर का रहने वाला है। उनकी उम्र 20 से 30 साल के बीच की है। हालांकि पुलिस अभी इस मामले में यह साफ पता नहीं कर पाई है कि वें किसी आतंकी संगठन के लिए काम कर रहे हैं या स्वतंत्र रूप से काम कर रहे हैं। पुलिस के कहना है कि, ” हो सकता है वें हिजबुल मुजाहिदीन या लश्कर के लिए काम कर रहे हों। हत्या के तरीके को देखते हुए लश्कर से जुड़े होने की ज्यादा संभावना है।

Read Also: श्रीनगर: दोहरे आतंकी हमले में तीन पुलिसकर्मी की मौत, हिजबुल मुजाहिदीन ने ली जिम्मेदारी

उत्तर और दक्षिण कश्मीर में आतंकी वारदात में स्थानीय युवक शामिल होते रहते हैं। लेकिन कई सालों बाद श्रीनगर के लड़कों का आंतकी गतिविधियों में शामिल होने का मामला सामने आया है। पुलिस कई साल पहले कश्मीर को आतंक से मुक्त शहर घोषित कर चुकी है। जब भी श्रीनगर में आतंकी घटना होती है तो पुलिस उत्तर कश्मीर से आए आतंकियों को जिम्मेदार मानती थी। सुरक्षा एजेंसी और लोकल पुलिस के लिए श्रीनगर के स्थानीए युवकों का आतंकी घटना में शामिल होना परेशानी का कारण बन गया है। हालांकि अभी ये संख्या सिर्फ तीन है लेकिन पुलिस इसकी गंभीरता से जांच कर रही है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कश्‍मीर: नहीं हुई मरम्‍मत तो गांववालों ने सड़क पर ही बो दिए धान
2 श्रीनगर: दोहरे आतंकी हमले में तीन पुलिसकर्मी की मौत, हिजबुल मुजाहिदीन ने ली जिम्मेदारी
3 UPSC Result: आतंकवाद के शिकार अनंतनाग से हैं 2nd रैंक अतहर, लगातार दो बार पास की परीक्षा
यह पढ़ा क्या?
X