ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान से फायरिंग पर बोले फारूख अब्दुल्ला- हम भी तो चला रहे गोलियां

नेशनल कॉन्फ्रेंस चीफ ने आगे कहा कि आपसी शांति के लिए पहल की शुरूआत नई दिल्ली को करनी चाहिए।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फाइल फोटो)

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अब्दुल्ला ने विवादित बयान दिया है। पाकिस्तान की ओर से लगातार संघर्ष विराम के उल्लंघन पर उन्होंने मंगलवार (6 जनवरी, 2018) को संवाददाताओं से कहा, ‘क्या सिर्फ पाकिस्तान की तरफ से फायरिंग की जा रही है? हम भी तो गोलियां चला रहे हैं। दोनों तरफ से ऐसा हो रहा है।’ उन्होंने आगे कहा कि इससे युद्ध की स्थिति बनेगी और युद्ध किसी भी चीज का समाधान नहीं है। दोनों देशों के बीच इस मुद्दे को सिर्फ बातचीत से निपटाया जा सकता है। नेशनल कॉन्फ्रेंस चीफ ने आगे कहा कि आपसी शांति के लिए पहल की शुरूआत नई दिल्ली को करनी चाहिए।

दरअसल जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम से चार फरवरी, 2018 को पाकिस्तान की तरफ से संघर्ष विराम में शहीद हुए चार भारतीय जवानों को लेकर प्रतिक्रिया मांगी गई थी। जिसपर उन्होंने जवाब देते हुए आगे कहा कि दोनों तरफ से लोग मर रहे हैं, जवानों की जान जा रही है। ऐसा समय कब आएगा जब यह खत्म होगा? बता दें कि जम्मू-कश्मीर में सीमा पर संघर्ष विराम उल्लंघन में एक आर्मी कैप्टन समेत 4 भारतीय जवान शहीद हो गए और 1 जवान घायल हो गया।

रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तानी रेंजरों ने रविवार (4 फरवरी) को राजौरी डिस्ट्रिक्ट में मंजारकोट सेक्टर के तारकुंडी और भीमबेर गली सेक्टर में गोलाबारी की। इससे पहले सुबह और शाम की घटनाओं के मिलाकर पाकिस्तान ने कई दफा भारतीय सेना की चौकियों पर गोलीबारी की। पुंछ जिले में सीमा से सटी भारतीय सेना की अग्रिम चौकी पर गोलीबारी हुई तो शाम को राजौरी के मंजाकोट सेक्टर में भी पाकिस्तान की तरफ से गोलाबारी की गई।

वहीं पुंछ जिले के शाहपुर सेक्टर में करीब 11 बजे से पाकिस्तान की ओर से गोलाबारी शुरू की गई। पाकिस्तान की तरफ से मोर्टार दागे गए। रविवार को अधिकारियों ने बताया कि पुंछ में रविवार को नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सेना की ओर से बिना वजह की गई अंधाधुंध गोलीबारी में एक भारतीय सैनिक और एक लड़की घायल हो गई थी।

Next Stories
1 शोपियां में गोलीबारी पर सैनिकों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया
2 थल सेना प्रमुख रावत ने कहा- अफस्पा पर पुनर्विचार की जरूरत नहीं
3 जम्मू और कश्मीर: खौफ में जी रहे सीमाई गांवों में रहने वाले
यह पढ़ा क्या?
X