ताज़ा खबर
 

कांग्रेस नेता गुलाब नबी आजाद बोले- ये कश्मीरी मुसलमान ही थे जिन्होंने जिन्ना के दो देश का सिद्धांत ठुकराया था, आज उन्हें प्यार की जरूरत है

कांग्रेस नेता और कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाब नबी आजाद ने कश्मीर के लोगों को समझने की अपील की है। उनका कहना है कि कश्मीर को प्यार की जरूरत है जो भारत चाहे तो उसे दे सकता है।

कांग्रेस नेता और कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाब नबी आजाद। (फाइल फोटो)

कांग्रेस नेता और कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री गुलाब नबी आजाद ने कश्मीर के लोगों को समझने की अपील की है। उनका कहना है कि कश्मीर को प्यार की जरूरत है जो भारत चाहे तो उसे दे सकता है। उन्होंने कहा, ‘आजादी के बाद जहां दुनिया के कई राज्यों के मुसलमान जिन्ना की दो राष्ट्र की बात का समर्थन करते हुए अपना घर छोड़कर पाकिस्तान चले गए थे तब ये कश्मीरी मुसलमान ही थे जो अपना घर छोड़कर पाकिस्तान नहीं गए। तो आज वहां ऐसे हालात क्यों बने हुए हैं। कश्मीर के लोगों को प्यार से समझने की जरूरत है। मोदी सरकार को मनमोहन सरकार के वक्त बनाई गई रिपोर्ट पर काम करना चाहिए। उससे कश्मीर की समस्या का सामाधान निकाला जा सकता है।’

जम्मू-कश्मीर में हिजुबल कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद भड़की हिंसा लगातार जारी है। वहां कर्फ्यू को लगे एक महीने से ज्यादा हो गया है। राज्यसभा में भी इस मुद्दे पर मानसून सेशन में दो बार चर्चा हो चुकी है। चर्चा के दौरान गुलाम नबी आजाद ने अटल बिहारी वाजपेयी की तारीफ करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर निशाना साधा था। तब चर्चा शुरू करते हुए राज्यसभा में कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने कश्मीर मुद्दे पर चर्चा करवाए जाने के लिए गृह मंत्री राजनाथ सिंह का धन्यवाद किया था। उन्होंने कहा था कि दलित मुद्दे पर हमने संसद में प्रधानमंत्री का बयान नहीं सुना, उनका व्यू हमें तेलंगाना में सुनने को मिला। हम मांग करते हैं कि पीएम मोदी संसद में कश्मीर और दलित मुद्दे पर बयान दें। उन्होंने कहा कि कश्मीर से सिर्फ उसकी खूबसूरती के लिए प्यार नहीं करें, कश्मीर से उसकी जनता के लिए प्यार करें, उन लोगों और बच्चों से प्यार करें जिन्होंने प्रदर्शन में अपनी आंखें गंवाई।

Read Also: जम्हूरियत, कश्मीरियत की बातें अटलजी के मुंह से अच्छी लगती हैं, औरों के नहीं

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App