ताज़ा खबर
 

CM महबूबा ने कहा- भारत मुस्लिमों के लिए सबसे सुरक्षित देश, सार्क सम्मेलन रद्द होने को बताया ‘दुर्भाग्यपूर्ण’

महबूबा ने मोदी से सुर मिलाते हुए उन्होंने पाकिस्तान को गरीबी से लड़ने और बातचीत से समाधान की नसीहत दी।

Author नई दिल्ली | September 29, 2016 1:20 AM
जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती। (पीटीआई फाइल फोटो)

जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सार्क सम्मलेन के रद्द हो जाने के बाद कहा है की भारत को पाकिस्तान के साथ सुलह की कोशिश करनी चाहिए । साथ ही उन्होंने सार्क सम्मेलन के न होने को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ भी बताया है। जम्मू और श्रीनगर में उज्ज्वला योजना के शुभारंभ पर बोलते हुए मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कहा कि मुसलमानों को प्रधानमंत्री मोदी पर भरोसा करना चाहिए। मोदी ने मुसलमानों को वोट बैंक न समझकर बराबरी का स्थान देने की बात कही है। महबूबा ने कहा, मुसलमान हिंदुस्तान में जितने सुरक्षित हैं उतने दुनिया में कहीं नहीं। इस कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान मौजूद थे।

महबूबा ने  मोदी से सुर मिलाते हुए उन्होंने पाकिस्तान को गरीबी से लड़ने और बातचीत से समाधान की नसीहत दी। उन्होंने आगे कहा कि युद्ध किसी मसले का समाधान नहीं हो सकता।  साथ ही ये भी कहा कि सार्क सम्मेलन पर कहा कि उड़ी हमले के बाद बदले हालात में पीएम वहां नहीं जा सकते थे। इससे कुछ दिनों पहले भाजपा के वरिष्‍ठ नेता सुब्रमण्‍यम स्‍वामी ने जम्‍मू-कश्‍मीर की मुख्‍यमंत्री महबूबा मुफ्ती पर निशाना साधा था। उन्‍हाेंने एक टीवी इंटरव्‍यू में मंगलवार को मुफ्ती की तुलना ‘क‍ुत्‍ते की पूंछ से की, जिसे सीधा नहीं किया जा सकता।’ उन्‍होंने कहा, ”वहां (जम्‍मू-कश्‍मीर) उनकी (मुफ्ती) की जगह राष्‍ट्रपति शासन होना चाहिए। वह कुत्‍ते की पूंछ की तरह हैं, जिसे सीधा नहीं किया जा सकता।” स्‍वामी का यह बयान पार्टी लाइन से हटकर आया है। जम्‍मू-कश्‍मीर में भारतीय जनता पार्टी और महबूबा मुफ्ती की पीडीपी के गठबंधन वाली सरकार है। स्‍वामी ने कहा कि भाजपा ने यह साेच कर उनके साथ गठबंधन सरकार बनाई दी कि मुफ्ती अपने को ‘सुधार’ लेंगी। स्‍वामी ने कहा, ”महबूबा कभी सुधरेगी नहीं। उनके आतंकियों से पुराने ताल्‍लुकात हैं।” स्‍वामी का कहना है कि यह गठबंधन पहले से ही डूबा हुआ था और अब यह अंत तक पहुंच चुका है। हालांकि जम्मू और कश्मीर में बीजेपी और पीडीपी के बीच सब सामान्य नजर  आ रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App